scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: क्या तेजस ट्रेन में खाना खाने से यात्री आईसीयू में पहुंच गए?

जब से लखनऊ और दिल्ली के बीच देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस का संचालन शुरू हुआ है, तबसे इसे लेकर सोशल मीडिया पर खूब चर्चे हो रही है.

वायरल फोटो वायरल फोटो

जब से लखनऊ और दिल्ली के बीच देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस का संचालन शुरू हुआ है, तबसे इसे लेकर सोशल मीडिया पर खूब चर्चे हो रही है. ऐसे में एक वायरल पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि तेजस में खराब खाना परोसा जा रहा है, जिससे कई यात्री बीमार हो गए और कुछ को तो आईसीयू में भी भर्ती कराना पड़ा.

फेसबुक पेज ‘Viral in India’ ने 30 अक्टूबर को एक पोस्ट अपलोड करते हुए लिखा, 'ये हाल देश की सबसे अच्छी ट्रेन का है.' पोस्ट में तेजस ट्रेन का फोटो, साथ में ट्रेन में परोसे जाने वाले खाने का फोटो लगाया गया है और उसके ऊपर लिखा गया है, 'मौत से मिला रही तेजस एक्सप्रेस.' फोटो के नीचे लिखा गया है, 'तेजस का खाना खाने से 24 यात्रियों की हालत खराब, 3 यात्री आइसीयू में जिंदगी और मौत से लड़ रहे.' इस पोस्ट पर लोग तरह तरह के कमेंट कर रहे हैं, जैसे- 'आ गए अच्छे दिन' और 'हर जगह घोटाला' वगैरह.

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.

यही पोस्ट फेसबुक पर कुछ और लोगों ने पोस्ट की है और 'daily bihar ' नाम की एक वेबसाइट ने भी इसे खबर के तौर पर पेश किया है.

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि पोस्ट में किया जा रहा दावा भ्रामक है. दरअसल, ये मामला 2017 का है. उस समय कुछ यात्रियों ने तबियत खराब होने की शिकायत जरूर की थी, लेकिन कोई भी आईसीयू में भर्ती नहीं हुआ था.

AFWA ने पड़ताल के लिए सबसे पहले ''तेजस' 'बीमार' 'यात्री' शब्दों को इंटरनेट पर सर्च किया तो पाया कि अक्टूबर, 2017 में ऐसी खबरें सामने आई थीं. गोवा से मुंबई आ रही हाईस्पीड तेजस ट्रेन में 26 लोग बीमार हुए थे जिन्हें चिपलून के अस्पताल में भरती कराया गया था. चिपलून, मुंबई से तकरीबन 250 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र में है. अमर उजाला और जनसत्ता में इसके बारे में पढ़ा जा सकता है. इन रिपोर्ट्स के मुताबिक, 15 अक्टूबर 2017 को तेजस में यात्रा कर रहे लोगों को सुबह का नाश्ता दिया गया था, जिसके बाद लोग बीमार हो गए थे.

इस मामले में बाकायदा जांच बिठाई गई थी और रेलवे ने रिपोर्ट भी सौंपी थी जिसमें कहा गया था कि रेलवे के खाने से कोई बीमार नहीं हुआ था. एक साथ यात्रा कर रहे कुछ लोग बीमार हुए थे जो अपना खुद का खाना खा रहे थे और ट्रेन में दो बच्चों के उल्टी करने से कोच में मौजूद सभी लोगों को तबियत खराब लगने लगी थी. इससे जुड़ी खबर भास्कर की वेबसाइट पर पढ़ी जा सकती है.

AFWA ने इस मामले में आईआरसीटीसी और रेलवे बोर्ड के अधिकारियों से भी बात की. आईआरसीटीसी के पश्चिमी जोन के केटरिंग डिवीजन के ज्वाइंट जनरल मैनेजर नरेंद्र पिपिल ने कहा, '2017 में ऐसा फूड पॉइजनिंग का मामला सामने आया था. तुंरत जांच बैठाई गई थी और रेलवे के परोसे खाने में कुछ खराबी नहीं पाई गई थी. इस मामले में कोई गंभीर रूप से बीमार भी नहीं हुआ था. कोई आइसीयू में नहीं था.'

इस मामले में दूसरे दिन ही सभी भर्ती लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था. रेलवे बोर्ड एडीजी पब्लिक रिलेशन श्यामा प्रसाद ने कहा, 'भारतीय रेलवे में तीन तेजस ट्रेनें चलती हैं और पिछले दो दिनों में ऐसी कोई शिकायत हमें नहीं मिली है.'

जाहिर है कि 2017 की खबर को एक बार फिर से 2019 की बताकर वायरल किया जा रहा है.

फैक्ट चेक

फेसबुक पेज ‘वायरल इन इडिया’

दावा

तेजस में खराब खाना खाने से 24 यात्री बीमार, 3 आइसीयू में

निष्कर्ष

2017 में तेजस ट्रेन में 25 लोग बीमार हुए थे, लेकिन रेलवे की जांच में खाने में कोई गड़बड़ी नहीं पाई गई थी.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
फेसबुक पेज ‘वायरल इन इडिया’
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें