scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: केरल सरकार ने अयोध्या में भूमि पूजन के दिन नहीं किया ब्लैकआउट

एक पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसमें दावा किया जा रहा है कि केरल की भारतीय सीपीएम की अगुआई वाली सरकार ने लोगों को राम मंदिर भूमि पूजन समारोह देखने से रोकने के लिए 5 अगस्त को राज्य में ब्लैकआउट की घोषणा की यानी पूरे राज्य की बिजली काट दी गई.

केरल में भूमि पूजन के दिन ब्लैकआउट? केरल में भूमि पूजन के दिन ब्लैकआउट?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन और शिलान्यास समारोह में शामिल हुए. इस कार्यक्रम को नेशनल ब्रॉडकास्टर दूरदर्शन ने लाइव टेलीकास्ट किया और देश भर के लाखों लोग इसके गवाह बने. इस बीच एक पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसमें दावा किया जा रहा है कि केरल की भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के नेतृत्व वाली सरकार ने लोगों को राम मंदिर भूमि पूजन समारोह देखने से रोकने के लिए 5 अगस्त को राज्य में ब्लैकआउट की घोषणा की यानी पूरे राज्य की बिजली काट दी गई.

ऐसे ही एक ट्विटर यूजर ने दावा किया, “केरल में आज लोगों को रामजन्म भूमि पूजन देखने से रोकने के लिए पूरी तरह ब्लैकआउट किया गया. एक समुदाय को खुश करने की गरज से दूसरे समुदाय को हाशिए पर रखने के लिए कम्युनिस्टों का शुक्रिया. अब केरल को एहसास होगा कि किस पार्टी को वोट देना है.”

image-1_080820091004.png

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि ये दावा भ्रामक है. पिछले कई दिनों से मूसलाधार बारिश और तेज हवाओं के कारण केरल में बिजली आपूर्ति बुरी तरह बाधित रही है. लेकिन भूमि पूजन के दिन ज्यादातर जिलों में बिना रुकावट के बिजली आपूर्ति हुई.

ये दावा फेसबुक पर भी वायरल हो रहा है. पोस्ट के आर्काइव यहां, यहां और यहां देखे जा सकते हैं.

AFWA की पड़ताल

राम मंदिर भूमि पूजन के पहले वाम दलों- सीपीआई और सीपीआई (एम) ने इस समारोह में केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार की भागीदारी का विरोध करते हुए कहा था कि यह संविधान की भावना का उल्लंघन होगा. दूरदर्शन पर इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण करने के केंद्र के फैसले पर भी इन पार्टियों ने आपत्ति जताई थी.

AFWA ने केरल के प्रमुख क्षेत्रीय चैनलों से ये जानने के लिए संपर्क किया कि क्या भूमि पूजन कार्यक्रम को प्रसारित करने में किसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़ा.

एशियानेट न्यूज के चीफ कोऑर्डिनेटिंग एडिटर सिंधु सूर्यकुमार ने AFWA को बताया, “पिछले कई दिनों से भारी बारिश और तेज हवाओं के कारण केरल के कई जिलों में बिजली आपूर्ति बुरी तरह बाधित रही है. हालांकि, केरल में कोई ब्लैकआउट नहीं था, जैसा कि सोशल मीडिया पर कई लोग दावा कर रहे हैं. हमें भूमि पूजन कार्यक्रम के लाइव टेलीकास्ट के दौरान किसी खास परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा. हम अयोध्या से 11:30 बजे दोपहर में लाइव हुए और ये करीब 3:30 तक चलता रहा.”

मनोरमा न्यूज के न्यूज डायरेक्टर जॉनी ल्यूकोस ने भी हमें बताया कि चैनल के लाइव टेलीकास्ट के दौरान पॉवर सप्लाई से संबंधित कोई व्यवधान नहीं आया.

उन्होंने कहा, “अयोध्या का मसला काफी संवेदनशील है और राज्य सरकार राम मंदिर के भूमि पूजन समारोह के दिन ब्लैकआउट थोपने का प्रयास नहीं करेगी. अगर लाइव टेलीकास्ट देखने में कोई बड़ा व्यवधान होता तो जनता की ओर से हमें सचेत करने का प्रयास किया जाता. हालांकि, ऐसा कुछ भी नहीं हुआ.”

मनोरमा न्यूज ने 5 अगस्त को भूमि पूजन का वीडियो भी यूट्यूब पर अपलोड किया है. यहां मलयालम में इसके कैप्शन में लिखा है, “अयोध्या में भूमि पूजन जारी है”. ये वीडियो नीचे दिए लिंक पर देखा जा सकता है.

AFWA ने ये भी पाया कि 3 और 4 अगस्त की तुलना में 5 अगस्त को केरल में बिजली की रोजाना औसत खपत में कोई खास अंतर नहीं था. केरल इलेक्ट्रिीसिटी बोर्ड (KSEB) के आंकड़ों के मुताबिक, 5 अगस्त को बिजली की रोजाना औसत खपत 56 मिलियन यूनिट (mu) थी, जबकि 3 और 4 अगस्त की दर क्रमशः 57 mu और 57.7 mu थी.

केरल इलेक्ट्रिीसिटी बोर्ड के चीफ पब्लिक रिलेशन अधिकारी राम महेश ने हमें बताया, “बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव के कारण केरल में पिछले कई दिनों से भारी बारिश हो रही है. दक्षिणी केरल के कुछ जिलों में 5 अगस्त को बिजली कटौती हुई थी, क्योंकि पेड़ गिरने के कारण बिजली के खंभे क्षतिग्रस्त हो गए थे. इसमें कासरगोड, कन्नूर, कालीकट, वायनाड, त्रिशूर, और पलक्कड़ जैसे जिले शामिल हैं. इसीलिए 5 अगस्त को बिजली की खपत 56 mu हो गई. बाकी राज्य में बिजली आपूर्ति में कोई व्यवधान नहीं था. भूमि पूजन से कई दिन पहले से ही 5 अगस्त को ब्लैकआउट की अफवाह उड़ रही थी और हमने पहले ही इस तरह की अफवाहों के खिलाफ चेतावनी जारी की थी.”

केरल इलेक्ट्रिीसिटी बोर्ड ने 5 अगस्त को भारी बारिश को लेकर उत्तरी केरल के जिलों के लिए अलर्ट भी जारी किया था.

इसलिए ये दावा झूठा है कि केरल सरकार ने लोगों को राम मंदिर भूमि पूजन देखने से रोकने के लिए राज्य में ब्लैकआउट की घोषणा की थी. हालांकि, 5 अगस्त को केरल के कुछ जिलों में भारी बारिश और तेज हवाओं के चलते बिजली आपूर्ति बाधित हुई, लेकिन ज्यादातर जिलों में बिजली की आपूर्ति ​अबाधित रूप से जारी रही.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

केरल सरकार ने लोगों को राम मंदिर भूमि पूजन समारोह देखने से रोकने के लिए 5 अगस्त को राज्य में ब्लैकआउट की घोषणा की.

निष्कर्ष

केरल में पिछले दिनों कुछ जिलों भारी बारिश और तेज हवाओं के चलते बिजली आपूर्ति बाधित रही है, लेकिन 5 अगस्त को ज्यादातर जिलों में बिजली आपूर्ति जारी रही.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें