scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल का नहीं है कोरोना से बचने की सलाह देने वाला ये शख्स

सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में दावा किया गया है कि हर दो घंटे पर गरम चाय, ब्लैक टी या गरम पानी पीना चाहिए, जिससे कोरोना वायरस से बचा जा सकता है. जानिए, क्या है वायरल पोस्ट की सच्चाई.

सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट

कोरोना वायरस के हमले के बाद से ही इससे निपटने के कई तरीके सोशल मीडिया पर खूब शेयर किये जा रहे हैं. इसी तरह एक शख्स का वीडियो शेयर करके दावा किया जा रहा है कि वह शख्स मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में "कोरोना चीफ डॉक्टर" है. मुंबई में कस्तूरबा अस्पताल में ही कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है.

क्या है दावा?

फेसबुक यूजर ‘चला हवा येऊ द्या’ ने मराठी में एक वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है, ‘कस्तूरबा अस्पताल के "कोरोना चीफ डॉक्टर" की सबसे महत्वपूर्ण और व्यावहारिक सलाह सभी नागरिकों के लिए. पूरी बात सुनें’. इस पोस्ट पर कमेंट करते हुए लोग शुक्रिया अदा कर रहे हैं. इस स्टोरी के लिखे जाने तक 2200 लोगों ने इस पोस्ट को शेयर किया. इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है. इसी वीडियो के साथ ये दावा यूट्यूब और ट्विटर पर भी शेयर किया जा रहा है.

9 मिनट के लंबे वीडियो में डॉ फहीम सय्यद का नाम लिखा दिखाई दे रहा है. जिसमें दावा किया गया कि हर दो घंटे पर गरम चाय, ब्लैक टी या गरम पानी पीना चाहिए, जिससे कोरोना वायरस से बचा जा सकता है.

क्या है सच्चाई?

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि वायरल वीडियो में जो शख्स दिख रहा है, उसका कस्तूरबा अस्पताल से कोई लेना-देना नहीं है. वीडियो में हर दो घंटे पर चाय, ब्लैक टी और गरम पानी पीने की जो बात कही जा रही है, उसे पहले ही गलत साबित किया जा चुका है.

ना पोस्ट ना डॉक्टर

इंडिया टुडे ने सबसे पहले मुंबई महानगर पालिका के अधिकारियों से संपर्क किया. नगरपालिका की उप कार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ दक्षा शाह ने कहा, “यह दावा गलत है. वह कस्तूरबा अस्पताल के डॉक्टर नहीं हैं.” अस्पताल में 'कोरोना चीफ डॉक्टर' नाम की कोई पोस्ट ही नहीं है.

स्टोरी के लिखे जाने तक मुंबई समेत महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों का आंकड़ा 230 पहुंच गया है. इस वायरस से महाराष्ट्र में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है.

गरम पानी या चाय पीने से लाभ नहीं

इंडिया टुडे ने इससे पहले भी इस बात की पड़ताल की थी और पाया था कि कोरोना वायरस से लड़ने में गरम पानी या चाय कारगर हथियार नहीं हैं.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

चाय और गरम पानी से कोरोना वायरस का इजाल बताते हुए मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल के डॉक्टर का वीडियो.

निष्कर्ष

चाय और गरम पानी कोरोना वायरस का इलाज है, इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है, वीडियो दिख रहा शख्स कस्तूरबा अस्पताल का नहीं है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें