scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का नहीं बल्कि बेंगलुरू में हुए ‘फ्रीडम मार्च’ का है ये वीडियो 

कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ को दो सप्ताह पूरे होने वाले हैं. इस दौरान सोशल मीडिया पर इस यात्रा से जुड़े कई वीडियो और तस्वीरें सच्चे-झूठे दावों के साथ वायरल हुए हैं. अब एक और वीडियो शेयर करते हुए  कहा जा रहा है कि उसमें उमड़ी भीड़ कांग्रेस की यात्रा को मिल रहे जनसमर्थन का संकेत है.

X
फैक्ट चेक फैक्ट चेक

कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ को दो सप्ताह पूरे होने वाले हैं. इस दौरान सोशल मीडिया पर इस यात्रा से जुड़े कई वीडियो और तस्वीरें सच्चे-झूठे दावों के साथ वायरल हुए हैं. अब एक और वीडियो शेयर करते हुए  कहा जा रहा है कि उसमें उमड़ी भीड़ कांग्रेस की यात्रा को मिल रहे जनसमर्थन का संकेत है. 17 सेकेंड के इस वीडियो में बड़ी संख्या में लोग तिरंगा हाथ में लिए एक सड़क पर मार्च करते दिख रहे हैं.  

 

इस वीडियो को शेयर करते हुए एक फेसबुक यूजर ने लिखा, “भारत जोड़ो यात्रा में उमड़ा जनसैलाब स्पष्ट कर रहा है- भारत को जोड़ने के लिए पूरा देश निकल पड़ा है. आइए, आप भी जुड़िए और भारत को जोड़िए." 

फाइल फोटो

इंडिया टुडे की फैक्ट चेक टीम ने पाया कि वायरल वीडियो में दिख रहा मार्च कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का हिस्सा नहीं है. हालांकि इतनी बात जरूर सच है कि ये मार्च कांग्रेस का ही है और इसी साल 15 अगस्त को बेंगलुरू में आयोजित हुआ था. 

कैसे पता लगाई सच्चाई? 

रिवर्स सर्च के जरिए ये वीडियो हमें ‘पब्लिक टीवी’ नाम के यूट्यूब चैनल पर मिला. 15 अगस्त 2022 को अपलोड हुई इस खबर के मुताबिक ये कर्नाटक कांग्रेस के ‘फ्रीडम मार्च’ का वीडियो है. 15 अगस्त को बेंगलुरू में आयोजित हुए इस मार्च में कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धारमैया और कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने भी हिस्सा लिया था. 

इसके अलावा इस वीडियो को एक फेसबुक यूजर ने भी 15 अगस्त, 2022 को शेयर करते हुए लिखा था कि ये बेंगलुरू में कांग्रेस के ‘फ्रीडम मार्च’ का वीडियो है. कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ सात सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू हुई थी. यात्रा का काफिला इस वक्त केरल में चल रहा है. जल्द ही यात्रा कर्नाटक पहुंचेगी. ये यात्रा 150 दिन तक चलेगी और 12 राज्यों में तकरीबन 3500 किलोमीटर का सफर तय करेगी.   

(रिपोर्ट- सुमित कुमार दुबे/ यश मित्तल) 

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स 

दावा

तिरंगा हाथ में लेकर चल रही ये भीड़ कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का हिस्सा है. 

निष्कर्ष

वायरल वीडियो में दिख रहे लोग कांग्रेस के कार्यकर्ता जरूर हैं लेकिन ये ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का नहीं बल्कि 15 अगस्त, 2022 को बेंगलुरू में आयोजित हुए कांग्रेस के ‘फ्रीडम मार्च’ का हिस्सा थे. 

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स 
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें