scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: तबाही का ये मंजर अफगानिस्तान के हालिया भूकंप का नहीं है

हमने अपनी जांच में पाया कि ये फोटो हाल ही में अफगानिस्तान में आए भूकंप की नहीं है. ये तस्वीर पाकिस्तान के मीरपुर में 24 सितंबर 2019 को आए भूकंप की है. दरअसल उस वक्त पूर्वी पाकिस्तान में 5.8 तीव्रता का भूकंप आया था.

X
तबाही का ये मंजर अफगानिस्तान के हालिया भूकंप का नहीं है तबाही का ये मंजर अफगानिस्तान के हालिया भूकंप का नहीं है

अफगानिस्तान में 22 जून को आए भीषण भूकंप की वजह से बात तकरीबन 1000 लोगों की जानें चली गईं. 6.1 तीव्रता वाले इस भूकंप के झटके पाकिस्तान में भी महसूस किए गए.

 इसी बीच एक भयानक रूप से दरकी हुई सड़क की तस्वीर वायरल हो गई है जिसे हालिया अफगानिस्तान भूकंप का बताया जा रहा है.

एक ट्विटर यूजर ने इसे पोस्ट करते हुए लिखा, “अफगानिस्तान में अभी की स्थिति.”

ऐसे ही एक ट्वीट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.

हमने अपनी जांच में पाया कि ये फोटो हाल ही में अफगानिस्तान में आए भूकंप की नहीं है. ये तस्वीर पाकिस्तान के मीरपुर में 24 सितंबर 2019 को आए भूकंप की है. दरअसल उस वक्त पूर्वी पाकिस्तान में 5.8 तीव्रता का भूकंप आया था.

कैसे पता लगाई सच्चाई?

रिवर्स सर्च करने पर हमें ये फोटो 'बीबीसी उर्दू' की 24 सितंबर 2019 की एक खबर में मिली. फोटो के कैप्शन में इसे पाकिस्तान के मीरपुर का बताया गया है.

'डेक्कन हेराल्ड' ने भी 25 सितंबर 2019 को ये फोटो ट्वीट करते हुए मीरपुर में आए भूकंप की जानकारी दी थी.

 

 'इंडिया टुडे' की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के मीरपुर में 24 सितंबर 2019 को 5.8 तीव्रता वाला  भूकंप आया था. इसके चलते कम से कम 30 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 300 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे. इस भूकंप के झटके उत्तर भारत में भी महसूस किए गए थे.

अफगानिस्तान में हाल ही में आई आपदा के कई वीडियो और तस्वीरें इंटरनेट पर शेयर की जा रही हैं.

 

अफगानिस्तान की तालिबान सरकार ने इस भूकंप में मरने वाले लोगों के परिजनों को एक लाख अफगानी करेंसी का मुआवजा देने की बात कही है.

( रिपोर्ट : यश मित्तल और संजना सक्सेना )

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

ये फोटो हाल ही में अफगानिस्तान में आए भूकंप की है.

निष्कर्ष

ये फोटो पाकिस्तान के मीरपुर में 24 सितंबर 2019 को आए भूकंप की है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें