scorecardresearch
 

यूडीआरएस नहीं तो अंपायर बेशक होंगे शर्मिंदा

भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज में अंपायरों को कई बार हास्यास्पद स्थिति से रू-ब-रू होना पड़ सकता है. ऐसा इसलिए होगा कि इस सीरीज में डीआरएस का इस्तेमाल नहीं होगा. और जब गलत फैसले दिए जाएंगे और इसे तकनीक के इस्तेमाल से बड़ी स्क्रीन पर दिखाया जाएगा तो बेशक अंपायर शर्मिंदा तो होंगे ही.

भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज में अंपायरों को कई बार हास्यास्पद स्थिति से रू-ब-रू होना पड़ सकता है. ऐसा इसलिए होगा कि इस सीरीज में डीआरएस का इस्तेमाल नहीं होगा. और जब गलत फैसले दिए जाएंगे और इसे तकनीक के इस्तेमाल से बड़ी स्क्रीन पर दिखाया जाएगा तो बेशक अंपायर शर्मिंदा तो होंगे ही.

गलत फैसला होने पर अंपायर की गलती को लाइव प्रसारक यूडीआरएस या हाटस्पॉट की मदद से दिखायेगा.

तकनीक के इस्तेमाल से इनकार के भारत के फैसले से प्रसारक चैनल नाइन खफा है. चैनल के कार्यकारी प्रोड्यूसर ब्राड मैकनमारा ने कहा, ‘मुझे समझ में नहीं आता कि वे इनकार क्यों कर रहे हैं.’

इस बीच आस्ट्रेलियाई कप्तान ने तकनीक के लगातार इस्तेमाल के लिये आईसीसी से कार्रवाई करने को कहा. उन्होंने कहा, ‘मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन हर टीम के हित में एक विस्तृत फैसला होना चाहिये. या तो सभी में इसका इस्तेमाल हो या किसी में नहीं.’

क्लार्क ने कहा कि वह मैदानी अंपायरों के फैसले पर अमल करके खुश हैं. उन्होंने कहा, ‘अंपायर सही फैसला लेने की पूरी कोशिश करते हैं.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें