scorecardresearch
 

हेमंत सोरेन बोले- लॉकडाउन के बाद राज्य के लोग लौटेंगे, फिर नौकरी देना होगी चुनौती

eAgenda Aaj Tak Live: Ye Jang Nahi Aasan- झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि 3 मई के बाद जब लॉकडाउन खत्म होगा तो दिक्कतें और बढे़ंगी क्योंकि लोग घर आएंगे. ऐसे में उन्हें पहले क्वारनटीन करने और फिर नौकरी देने की चुनौती होगी.

X
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन

  • ई-एजेंडा कार्यक्रम में शामिल हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन
  • 'जब लॉकडाउन खत्म होगा तो दिक्कतें और बढ़ जाएंगी'
  • राज्य के करीब 8 लाख लोग दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं

ई-एजेंडा आजतक कार्यक्रम में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य में पहले से ही समस्याएं रही हैं. कोरोना महामारी की प्रदेश में दोहरी मार पड़ी है. हमारे यहां से बड़ी संख्या में लोग दूसरे राज्यों में काम के लिए जाते हैं. उपलब्ध आकंड़ों के अनुसार, अभी हमारे राज्य के करीब 8 लाख लोग अन्य राज्यों में फंसे हुए हैं.

उन्होंने कहा कि झारखंड में जांच किट आने में देरी हुई लेकिन अब हम केंद्र सरकार के साथ मिलकर लोगों की जांच में तेजी ला रहे हैं. 'ये जंग नहीं आसान' सेशन में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि 3 मई के बाद जब लॉकडाउन खत्म होगा तो दिक्कतें और बढे़ंगी क्योंकि लोग घर आएंगे. ऐसे में उन्हें पहले क्वारनटीन करने और फिर नौकरी देने की चुनौती होगी.

कोटा से बच्चों को वापस लाने के सवाल पर झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह से बातकर मैंने राज्य की समस्या से उन्हें अवगत कराया है. हमारे पास इतने संसाधन नहीं हैं कि हम देश के अलग-अलग हिस्सों से छात्रों को घर वापस ला पाएं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कांग्रेस के आरोपों पर हेमंत सोरेन ने कहा कि हम अभी दलदल में फंसे हुए हैं. ऐसे में एक-दूसरे से उलझने की जगह उससे बाहर निकलने के बारे में सोचना चाहिए.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

90 फीसदी केंद्र सरकार पर आश्रित हैंः सीएम

केंद्र से मदद को लेकर हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखंड जैसे राज्य 90 फीसदी तक केंद्र सरकार पर आश्रित हैं. ऐसे में पिछड़े राज्यों की मदद बेहद जरूरी है. गरीब राज्यों में मनरेगा मजदूरों की मजदूरी बढ़ाने की जरूरत है. अगर मजदूरी बढ़ती है तो मजदूर काम करने दूसरे राज्यों में नहीं जाएंगे. राज्य में मनरेगा मजदूरी 200 रुपये भी नहीं है. जबकि अन्य पड़ोसी राज्यों में मनरेगा मजदूरी यहां से ज्यादा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें