scorecardresearch
 

e-एजेंडा: सीएम योगी के आरोपों पर गहलोत का जवाब- उन्होंने जानबूझकर भेजा बसों का बिल

अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान ऐसा एकमात्र राज्य होगा, जिसने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की तर्ज पर श्रमिक एक्सप्रेस बसें चला दीं. इसके जरिए उत्तर प्रदेश में भी हमनें लाखों लोगों को भेजा है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो-getty) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो-getty)

  • e-एजेंडा कार्यक्रम में शामिल हुए अशोक गहलोत
  • सीएम योगी के आरोपों पर गहलोत ने दिया जवाब

मोदी सरकार 2.0 का एक साल पूरा हो चुका है. इस मौके पर आजतक के खास कार्यक्रम e-एजेंडा में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शिरकत की. कार्यक्रम में अशोक गहलोत ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आरोपों पर भी जवाब दिया.

e-एजेंडा की लाइव कवरेज देखें यहां

दरअसल, आजतक के e-एजेंडा में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमने 70 बसें राजस्थान परिवहन की लीं. उन 70 बसों से भी उन्होंने बच्चों को केवल उत्तर प्रदेश की सीमा तक छोड़ने में सहयोग किया. लेकिन पहले उन्होंने 19 लाख रुपये तेल का पैसा लिया बाद में उन्होंने 36 लाख रुपये बसों का किराया भी मांगा. यही कांग्रेस की असलियत है.

सीएम योगी के आरोपों पर अशोक गहलोत ने जवाब देते हुए कहा कि हमनें ट्रेनों और बसों में करीब 25 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. देश में राजस्थान ऐसा एकमात्र राज्य होगा, जिसने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की तर्ज पर श्रमिक एक्सप्रेस बसें चला दीं. इसके जरिए उत्तर प्रदेश में भी हमनें लाखों लोगों को भेजा है.

यह भी पढ़ें: e-एजेंडा: योगी आदित्यनाथ बोले- कांग्रेस ने आपदा में भी बसों के नाम पर किया फर्जीवाड़ा

अशोक गहलोत ने बताया, 'जो सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि छात्रों को लाने के लिए हमसे 36 लाख रुपये ले लिए, उसकी बजाय हमने उत्तर प्रदेश को पांच करोड़ रुपये का भुगतान किया है. बसें चलाई, ट्रेनें भी चलाई हैं. 36 लाख रुपये की बात सिर्फ उत्तर प्रदेश सरकार कर रही है. कोई भी दूसरा राज्य पैसों की बात नहीं कर रहा है.'

'जानबूझकर भेजा बिल'

अशोक गहलोत ने कहा कि 34 हजार बच्चे फंसे हुए थे. हम उनको भेजने के लिए तैयार थे. लेकिन दूसरे स्टेट के बच्चों का खर्चा राजस्थान सरकार उठाएगी तो बदनामी के डर से जानबूझकर उन्होंने बिल भेजा. हमनें भी कई ट्रेनों और बसों से मजदूरों को भेजा है, जिसमें हमारे 5 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. अगर सीएम योगी सिर्फ 36 लाख रुपये की बात करते हैं तो ये काफी दुर्भाग्य की बात है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें