scorecardresearch
 

बिना लक्षण वाले कोरोना के मरीज नई टेंशन, छत्तीसगढ़ सरकार अपना रही ये रणनीति

छत्तीसगढ़ सरकार में मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा कि लोगों को कोरोना वायरस के खतरे के बाद अपने जीवन में बदलाव लाना होगा. आजतक के खास कार्यक्रम ई-एजेंडा आजतक में राज्य सरकार के मंत्री ने सरकार के कामकाज को साझा किया.

X
Agenda Aaj Tak Live Streaming: Hume Corona Ko Harana Hai Agenda Aaj Tak Live Streaming: Hume Corona Ko Harana Hai

  • बिना लक्षण के लोगों का पॉजिटिव आना चिंता: टीएस सिंह देव
  • कोरोना को सच्चाई मान, जीवनशैली बदलनी होगी: मंत्री

कोरोना वायरस महासंकट के बीच इस समय सबसे बड़ी चिंता ये भी सामने आ रही है कि जिन लोगों में इस वायरस के लक्षण नहीं हैं, वो भी इसका शिकार हो रहे हैं. आजतक के खास कार्यक्रम ई-एजेंडा आजतक में छत्तीसगढ़ सरकार में मंत्री टीएस सिंह देव ने इस मसले को लेकर बात की और बताया कि उनके राज्य में किस तरह से चुनौतियों से निपटा जा रहा है.

ई-एजेंडा आजतक की पूरी कवरेज यहां क्लिक कर पढ़ें...

टीएस सिंह देव के मुताबिक, लॉकडाउन से हम धीरे-धीरे निकल रहे हैं, हम इससे कैसे डील करेंगे अभी भी ये चुनौती है. जो कोरोना के मामले बिना लक्षण के आए हैं, वो सबसे बड़ी चुनौती है. लेकिन इससे निपटने के लिए लोगों की पहचान की जा रही है और टेस्टिंग पर जोर है. मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन को लेकर अब लोग थका हुआ महसूस कर रहे हैं कि ये कबतक रहेगा. मंत्री बोले कि एक्सपर्ट बोल रहे हैं कि आगे समय में मामले बढ़ सकते हैं.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हमें जीवन जीने की शैली को बदलना होगा और उसके बाद ही आगे बढ़ा जा सकता है. हाथ ना मिलाना, पैर ना छूना, बार-बार हाथ धोना ऐसी बातों को हमें अपने जीवन का हिस्सा बनाना होगा. अगर अचानक लॉकडाउन को हटा दिया तो अचानक मामले बढ़ सकते हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

लॉकडाउन के एग्जिट प्लान को लेकर छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन से धीरे-धीरे निकलना चाहिए. लोगों की आदत को बदलना होगा. क्योंकि ये मानकर चलना चाहिए कि लॉकडाउन खत्म होते ही बिल्कुल पहले जैसे हालात नहीं हो सकते. कोरोना हमारे बीच में रहेगा, इस सच्चाई को साझा करना होगा.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

प्लाज्मा थेरेपी को लेकर छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दिल्ली में ये कारगर साबित हुई है, लेकिन जिनसे प्लाज्मा ले रहे हैं उनकी सहमति भी जरूरी है. अगर ये तकनीक सही काम करती है तो उपयोग करना होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें