scorecardresearch
 

गरीबी में गुजरा राजू श्रीवास्तव का बचपन, नहीं थे स्कूल की फीस भरने के पैसे, टैलेंट की बदौलत ऐसे पूरी की पढ़ाई

राजू श्रीवास्तव ने 58 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया. 42 दिनों तक एक फाइटर की तरह जिंदगी की जंग लड़ने के बाद उन्होंने 21 सितंबर को अंतिम सांस ली. राजू के चले जाने से हर कोई सदमे में है और कॉमेडियन से जुड़ी खूबसूरत यादों को दोहरा रहा है.

X
राजू श्रीवास्तव राजू श्रीवास्तव

एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में 21 सितंबर का दिन हमेशा ब्लैक डे के तौर पर याद किया जाएगा, क्योंकि इसी दिन कॉमेडी के बादशाह राजू श्रीवास्तव ने इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया. राजू 42 दिनों तक एक फाइटर की तरह जिंदगी की जंग लड़ते रहे, लेकिन फिर उन्होंने अस्पताल में आंखिरी सांसें लेते हुए दम तोड़ दिया. राजू के निधन से कॉमेडियन के तमाम चाहने वाले गहरे सदमे में हैं. 

जब राजू के पास नहीं थे स्कूल की फीस के पैसे

राजू श्रीवास्तव तो चले गए, लेकिन अपने पीछे कई खूबसूरत यादें छोड़ गए. राजू श्रीवास्तव के फ्रेंड और भारती ज्ञानपीठ स्कूल के प्रिंसिपल सिद्धार्थ बाजपेयी ने राजू के बारे में स्कूल के दिनों का एक दिलचस्प किस्सा साझा किया है. सिद्धार्थ बाजपेयी और राजू श्रीवास्तव एक ही स्कूल में पढ़ते थे. हालांकि, दोनों की क्लासेस अलग थीं. जब सिद्धार्थ बाजपेयी 11वीं क्लास में थे, उस समय राजू 7वीं कक्षा के स्टूडेंट थे. 

सिद्धार्थ बाजपेयी ने अब राजू से जुड़ा एक ऐसा किस्सा साझा किया है, जिसे जानकर आपकी आंखें नम हो जाएंगी, लेकिन राजू के लिए प्यार बढ़ जाएगा. उन्होंने बताया कि राजू श्रीवास्तव एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखते थे. वे स्कूल की फीस भी अफॉर्ड नहीं कर पाते थे. लेकिन राजू के टैलेंट को देखते हुए स्कूल एडमिनिस्ट्रेशन ने उनकी फीस माफ कर दी थी. 

स्कूल में टीचर्स की मिमिक्री करते थे राजू

उन्होंने ये भी बताया कि राजू श्रीवास्तव स्कूल में सभी टीचर्स की मिमिक्री किया करते थे. उनके इस टैलेंट की वजह से कॉमेडियन को स्कूल में फ्री स्कॉलरशिप मिली थी. सिद्धार्थ बाजपेयी ने आगे बताया कि जब स्कूल टीचर्स राजू के उनकी मिमिक्री करने की शिकायत प्रिंसिपल से करते थे तो वो स्कूल टीचर्स के सामने तो राजू को डांट देते थे, लेकिन बाद में वही प्रिंसिपल राजू को शाबाशी देते थे और उन्हें इस फील्ड में आगे बढ़ने के लिए मोटिवेट भी करते थे. 

राजू श्रीवास्तव थे ही इतने टैलेंटेड, उनके हुनर का हर कोई कायल हो जाता था. स्टैंडअप कॉमेडियन के तौर पर राजू ने अपने अलग अंदाज और बोलने के तरीके से एक नया बार सेट किया था. राजू अपने मजाकिया अंदाज और जोक्स से फैंस के दिलों को जीतने में कामयाब हुए थे.

आज होगा राजू का अंतिम संस्कार 

राजू श्रीवास्तव का दिल्ली में आज (गुरुवार) सुबह 9.30 बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा. फैंस राजू को नम आंखों से श्रद्धांजलि दे रहे हैं. राजू भले ही इस दुनिया से चले गए हैं, लेकिन लोगों के दिलों में वो हमेशा जिंदा रहेंगे. राजू के तमाम फैंस उनके यूं चले जाने से शोक में हैं. राजू ने अपने शानदार सेंस ऑफ ह्यूमर और खुश मिजाज अंदाज की बदौलत करोड़ों लोगों के दिलों पर ऐसी छाप छोड़ी है कि उनकी कमी कभी कोई पूरी नहीं कर पाएगा. 

राजू श्रीवास्तव आप हमेशा याद आएंगे!

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें