scorecardresearch
 

मुश्किल वक्त में इस संगीतकार ने की शकील बदायुनी की मदद, गहरी थी दोनों की दोस्ती

म्यूजिक डायरेक्टर नौशाद के साथ शकील बदायुनी की अच्छी फ्रेंडशिप थी. पर्सनल फ्रंट के अलावा प्रोफेशनल फ्रंट पर भी दोनों काफी सक्सेसफुल रहे.

शकील बदायुनी शकील बदायुनी

फूल और पत्थर, बीस साल बाद, दो बदन और चौदवीं का चांद जैसी फिल्मों के गीत लिखने वाले शकील बदायुनी का जन्म 3 अगस्त, 1916 को हुआ था. उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी से पढ़ाई की. इसी दौरान लिखने का शौक उनके मन में पैदा हुआ और उन्होंने शेर कहने शुरू कर दिए. वैसे तो शकील ने कई सारे म्यूजिक डायरेक्टर्स के साथ काम किया मगर नौशाद के साथ उनकी बॉन्डिंग काफी शानदार रही. शकील बदायुनी की 103वीं जयंती पर बता रहे हैं नौशाद संग उनकी गहरी दोस्ती के बारे में कुछ खास बातें.

नौशाद के साथ गहरी दोस्ती

नौशाद की धुनों पर गाना लिखने वाले शकील बाद में उनके गहरे दोस्त भी बने. शकील से मुलाक़ात के बाद 25 साल तक नौशाद ने अपने ज्यादातर गाने शकील से ही लिखवाए. बैजू बावरा दोनों के करियर की बेहतरीन फिल्म है जो अपने गीत और संगीत के लिए आज भी याद की जाती है. हालांकि फिल्म के निर्देशक विनय भट्ट इसमें कवि प्रदीप से गाना लिखवाना चाहते थे. नौशाद को जब पता चला तो उन्होंने विनय से अनुरोध किया कि एक बार शकील के लिखे को सुन लें. और इस तरह शकील को सुनने के बाद विनय, नौशाद की बात पर राजी हो गए.

दिलवाई 10 गुना ज्यादा फीस

नौशाद और शकील की दोस्ती का एक और किस्सा मशहूर है. दरअसल, शकील को टीबी की बीमारी हो गई और वो इलाज के लिए पचगनी में थे. नौशाद जानते थे कि उनकी आर्थिक हालत भी खराब है. नौशाद ने शकील को तीन फिल्में दिलवाई. बताते चलें कि इन फिल्मों के लिए नौशाद को उनकी सामान्य फीस से 10 गुना ज्यादा भुगतान किया गया. नौशाद के अलावा शकील की दोस्ती संगीतकार रवि और गुलाम मोहम्मद के साथ भी थी. बॉम्बे हॉस्पिटल में इलाज के दौरान 53 वर्ष की आयु में शकील की मौत हो गई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें