scorecardresearch
 

संगीत के इस जादूगर ने दिए कई हिट गाने, फिर भी रह गई ये कसर

खय्याम के जन्मदिन पर जानें आखिर क्या वजह थी कि फिल्म इंडस्ट्री में शानदार संगीत देने के बावजूद भी म्जूयिक डायरेक्टर खय्याम को बदकिस्मत कहा जाता था.

म्यूजिक डायरेक्टर खय्याम म्यूजिक डायरेक्टर खय्याम

म्यूजिक डायरेक्टर खय्याम इंडस्ट्री में यूनीक संगीत बनाने के लिए जाने जाते थे. उन्होंने बॉलीवुड की कई सारी सुपरहिट फिल्मों के लिए गानें दिए. नौशाद की तरह ही खय्याम साहब ने अपनी फिल्मों में भी शास्त्रीय संगीत का अद्भुत इस्तेमाल किया. उनके संगीत को दर्शकों द्वारा आज भी खूब पसंद किया जाता है. उमराव जान, बाजार, थोड़ी स बेवफाई, रजिया सुल्तान, त्रिशूल और कभी-कभी जैसी फिल्मों के लिए धुनें दीं. म्यूजिक डायरेक्टर के जन्मदिन पर बता रहे हैं उनके जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें.

खय्याम का जन्म 18 फरवरी, 1927 को पंजाब के राहोन में हुआ था. ऐसा माना जाता है कि खय्याम इंडस्ट्री में पहले एक्टर बनना चाहते थे. उन्होंने कुछ वक्त तक इसके लिए प्रयास भी किया मगर बात बन नहीं पाई. इसी बीच उनकी दिलचस्पी संगीत की तरफ भी बढ़ने लगी. शोला और शबनम वो फिल्म थी जिसने खय्याम को इंडस्ट्री में एक संगीतकार के तौर पर स्थापित किया.

मगर अपने करियर में उन्हें जिस फिल्म में संगीत निर्देशन के लिए जाना जाता है उसमें उमराव जान का नाम सबसे पहले लिया जाता है. माना जाता है कि उमराव जान का संगीत निर्देशन करने के दौरान खय्याम साहब बड़े घबड़ाए हुए थे. वे इसे एक चुनौती के तौर पर ले रहे थे. दरअसल इसकी वजह ये थी कि इससे पहले रिलीज हुई फिल्म पाकीजा और उमराव जान में काफी समानताएं थीं. पाकीजा का संगीत पहले ही सुपरहिट हो चुका था. ऐसे में खय्याम को ना सिर्फ उस स्टैंडर्ड को छूना था बल्कि उन्हें अपने संगीत को पाकीजा से अलग भी रखना था.

खय्याम के निधन से बॉलीवड में शोक, आज मुंबई में दी जाएगी अंतिम विदाई

खय्याम: हीर रांझा से उमराव जान तक, 92 साल की उम्र में खामोश हो गई सबसे प्यारी धुन

इसके आगे इतहास गवाह है कि जैसा संगीत खय्याम साहब ने दिया उससे आज का दर्शकवर्ग भी प्रभावित है और निसंदेह आने वाली पीढ़ी भी इसका पूरा आनंद उठाती रहेगी. इतने शानदार म्यूजिक देने के बावजूद भी एक सच ये भी है कि खय्याम साहब को इंडस्ट्री में बदकिस्मत माना जाता था.  इतनी लोकप्रिय धुनें बनाने के बाद भी उनका संगीत कभी सिल्वर जुबली नहीं कर पाया था.

यश चोपड़ा ने खय्याम के बारे में कहा था ये

खय्याम ने एक इंटरव्यू में बताया था, "यश चोपड़ा अपनी एक फ़िल्म का म्यूज़िक मुझसे करवाना चाहते थे. लेकिन सभी उन्हें मेरे साथ काम करने के लिए मना कर रहे थे. उन्होंने मुझे कहा भी था कि इंडस्ट्री में कई लोग कहते हैं कि खय्याम बहुत बदकिस्मत हैं. उनका म्यूज़िक हिट तो होता है लेकिन सिल्वर जुबली नहीं करता."

'खय्याम' के नाम से मशहूर दिग्गज संगीतकार मोहम्मद ज़हूर खय्याम का 92 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. सीने में संक्रमण और निमोनिया की शिकायत के बाद उन्हें मुंबई के सुजय अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें