scorecardresearch
 

बॉलीवुड में दशकों से होता रहा है महंगाई का जिक्र, ये फिल्में हैं शामिल

कई दशक पहले से ही बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में महंगाई और गरीबी पर फिल्में बनती आई हैं. बता रहे हैं ऐसी ही कुछ फिल्मों के बारे में.

महंगाई पर बनीं बॉलीवुड फिल्में महंगाई पर बनीं बॉलीवुड फिल्में

साल 2019 का यूनियन बजट पेश किया जा चुका है. हर बार की तरह इस बार का बजट में भी दिखावे और आकर्षण के तर्ज पर बनाया गया है. जिसमें देश के गरीब की कोई बात नहीं ना ही किसानों का. ऐसे में मुद्दा वहीं आ कर अटक जाता है कि विकास कहां हैं. गांव की समस्याओं, गरीबों की समस्याओं और मध्यमवर्गीय परिवारों की समस्याएं हमाशे से स्थिर रही हैं. महंगाई की मार पीढ़ियां झेलती आ रही हैं. कई दशक पहले से ही बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में महंगाई और गरीबी पर फिल्में बनती आई हैं. बता रहे हैं ऐसी ही कुछ फिल्मों के बारे में.

1- सारे जहां से महंगा- साल 2013 में रिलीज हुई संजय मिश्रा की ये फिल्म दिखाती है कि सही मायने में एक मध्यमवर्गीय परिवार को किन समस्याओं का सामना करना पड़ जाता है. कैसे एक आदमी चंद पैसों में गुजर बसर करता है. कैसे कोई फरमाइशों और ख्वाहिशों में कटौती कर के जरूरत की चीजें खरीदने में ही उलझा रहता है. और इसी तरह उसकी पूरी जिंदगी बीत जाती है. फिल्म में संजय मिश्रा अपना परिवार चलाने के लिए एक स्कीम पर काम करते हैं और स्टॉक में सामान खरीद लेते हैं. ऐसा कर के वे खुद को मुसीबत में पाते हैं और बचने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाते हैं.

2- रोटी कपड़ा और मकान- साल 1974 में आई मनोज कुमार के निर्देशन में बनी ये फिल्म दिल को झकझोर जाती है. कैसे अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए आदमी को बड़े शहरों में संघर्ष करना पड़ता है ये इस फिल्म में दिखाया गया है. ये एक मल्टीस्टारर फिल्म थी जिसमें मनोज कुमार के अलावा अमिताभ बच्चन, शशी कपूर और जीनत अमान जैसे कलाकार शामिल थे.

3- पिपली लाइव- पिपली लाइव फिल्म का जिक्र आता है तो हरमुनियम पर बैठे रघुवीर यादव याद आते हैं. और याद आता है एक ऐसा गाना जो देश का एंथम सॉन्ग होना चाहिए. गाने के बोल हैं,- ''सखी सैंया तो खूब ही कमात हैं, महंगाई डायन खाए जात है.'' फिल्म का ये गाना लगभग हर दूसरे घर की कहानी बन गया है. महंगाई कम होने का नाम नहीं लेती और आमदनी बढ़ने का. इंसान का जीवन महज जरूरतों भर में सिमट कर रह जाता है.

4- फंस गए रे ओबामा- ये फिल्म साल 2010 में रिलीज हुई थी. फिल्म में रजत कपूर लीड रोल में थे. रजत कपूर अमेरिका से आए हुए एक एनआरआई होते हैं. जब अमेरिका मंदी के दौर से गुजर रहा होता है वे भारत अपने पुरखों की सम्पति लेने आते हैं. मगर भारत आकर मुसीबत में फंस जाते हैं. इसके बाद उन्हें भारत से वापस जाने के लिए काफी पापड़ बेलने पड़ते हैं.  

5- स्वदेश- साल 2004 में आई शाहरुख खान की ये फिल्म गांव की असली हालत बयां कर पाने में कामयाब रही थी. फिल्म ने भले ही ज्यादा बिजनेस ना किया हो पर फिल्म लोगों के दिलों तक उतरी थी. शाहरुख खान के दृष्टिकोण से भले ही फिल्म में देशप्रेम दिखाया गया हो मगर फिल्म से ये भी साफ तौर पर तामने आता है वो ये है कि आधुनिकरण के इस दौर में एक गांव तक ढंग से बिजली और वाटर सप्लाई की सुविधाएं तक नहीं पहुंच पा रहीं. आज भी ढूंढने पर भारत में ऐसे तमाम गांव मिल जाएंगे जहां सरकार कोई खास सुविधाएं मयस्सर नहीं करवा पाई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें