scorecardresearch
 

एक खत से आया ग‍िरीश कर्नाड की ज‍िंदगी में बदलाव, यूं शुरू हुआ फिल्मी सफर

गिरीश कर्नाड किसी पहचान के मोहताज नहीं है. उन्होंने फिल्मों में एक्टिंग के अलावा नाटक, स्क्रिप्ट राइटिंग और निर्देशन में अपना अधिकतर जीवन लगाया. उनका जन्म 19 मई, 1938 को महाराष्ट्र के माथेरान में हुआ था.

गिरीश कर्नाड गिरीश कर्नाड

गिरीश कर्नाड किसी पहचान के मोहताज नहीं है. उन्होंने फिल्मों में एक्टिंग के अलावा नाटक, स्क्रिप्ट राइटिंग और निर्देशन में अपना अधिकतर जीवन लगाया. उनका जन्म 19 मई, 1938 को महाराष्ट्र के माथेरान में हुआ था. उनको बचपन से ही नाटकों में रुचि थी. स्कूल के समय से ही थियेटर में काम करना शुरू कर दिया था. उन्होंने 1970 में कन्नड़ फिल्म संस्कार से बतौर स्क्रिप्ट अपने करियर की शुरूआत की थी.

उन्होंने अपने एक लेखन में बताया था, ''जब मैं 17 साल का था, तब मैंने आइरिस लेखक 'सीन ओ कैसी' की स्केच बनाकर उन्हें भेजा, तो उसके बदले उन्होंने मुझे एक पत्र भेजा. पत्र में उन्होंने लिखा था कि मैं यह सब करके अपना वक्त जाया न करूं, बल्कि कुछ ऐसा करूं, जिससे एक दिन लोग मेरा ऑटोग्राफ मांगे. ''

''मैंने पत्र पढ़कर ऐसा करना बंद कर दिया. मेरे माता-पिता दोनों की ही थियेटर में दिलचस्‍पी थी. मेरे पिता उस समय काम के सिलसिले में घूमते रहते थे. बाल गंधर्व के नाटक हों या मराठी थियेटर, उन दोनों की दिलचस्पी पूरी रहती थी. वे अक्सर थियेटर की बातें घर में किया करते थे. थियेटर कितना शानदार होता था, यह मैंने उन्हीं से सुना. इसके बाद मेरी इसमें रुचि बढ़ती गई. ''

गिरीश कर्नाटक आर्ट कॉलेज से ग्रेजुएशन की पढ़ाई की. इसके बाद उन्होंने इंग्लैंड जाकर आगे की पढ़ाई पूरी की और फिर भारत लौट आए. चेन्नई में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस में सात साल तक काम किया. इस दौरान जब काम में मन नहीं लगा तो नौकरी से इस्तीफा दे दिया. इसके बाद वे थियेटर के लिए समर्पित होकर काम करने लगे.

इसके बाद उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में प्रोफेसर के रूप में काम किया. जब वहां जमा नहीं तो दोबारा फिर भारत का रुख किया. इस बार उन्होंने भारत में रुकने का मन बना लिया था और वो पूरी तरह साहित्य और फिल्‍मों से जुड़ गए. इस दौरान उन्होंने क्षेत्रीय भाषाओं में कई फिल्में बनाई.

कर्नाड को इस बात के लिए भी जाना जाता है कि उन्होंने ऐतिहासिक पात्रों को आज के संदर्भ में देखा और उससे समाज को रूबरू कराया. उन्होंने कई ऐसे नाटक लिखे हैं जो इसके सबूत हैं. इसमें उनके तुगलक, ययाति व अन्य नाटक शामिल है.  गिरीश की मेरी जंग, अपने पराये, भूमिका, डोर स्वामी, एक था टाइगर और टाइगर जिंदा है जैसी फिल्मों में नजर आ चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें