scorecardresearch
 

कैसे बनते हैं भोजपुरी के ढिंचैक गानें? मजेदार है यशराज मुखाते का नया वीडियो

यशराज मुखाते को कौन नहीं जानता. इस बारी वह भोजपुरी गाने कैसे बनते हैं, इसपर एक रैप वीडियो लेकर आए हैं जो बहुत ही ज्यादा फनी है. वीडियो देखकर आपकी भी हंसी छूट जाएगी, क्योंकि यशराज मुखाते इस वीडियो में अपनी 'कमरिया' हिलाते जो नजर आ रहे हैं. यूट्यूब पर यह वीडियो 19वें नंबर पर ट्रेंड कर रहा है.

X
यशराज मुखाते
यशराज मुखाते

'रसोड़े में कौन था?" टाइटल पर मीम बनाने वाले म्यूजिक प्रोड्यूसर यशराज मुखाते इन दिनों सोशल मीडिया के स्टार बने हुए हैं. मिक्स एंड मैच करके जिस तरह से यशराज मुखाते वीडियो बनाते हैं और लोगों को हंसाते हैं. वह अद्भुत है. फनी रैप से यथराज मुखाते अक्सर ही अपनी चहेती ऑडिन्स का एंटरटेनमेंट करते दिकते हैं. सोशल मीडिया स्टार यशराज ने इस बारी फैन्स को बताया है कि आखिर भोजपुरी के सभी गाने बनते कैसे हैं? इसपर एक वीडियो बनाकर उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर भी पोस्ट किया है. 

वीडियो देख छूट जाएगी हंसी
यशराज मुखाते का यह वीडियो 19वें नंबर पर ट्रेंड कर रहा है. वीडियो की शुरुआत होती है यशराज मुखाते से, जहां वह बताते हैं कि आजतक उन्होंने जितने भी भोजपुरी गाने सुने हैं, उनमें एक ही बीट सुनी गई है. वह है ढोलक. और लोग इस बीच पर सनग्लासेस लगाकर मस्ती से झूमते दिखते हैं. इसके साथ मिक्स होता है हे हे हे हे हे.... यानी ढोलक और हे हे हे हे... इसके साथ तीसरी बीट होती है हार्मोनियम की. तीनों बीट्स मिक्स करके हर भोजपुरी गाने की धुन को बनाया जाता है. ऐसा हम नहीं, बल्कि यशराज मुखाते का कहना है. 

यशराज मुखाते का यह वीडियो इतना मजेदार है कि आप हंसे बिना खुद को रोक नहीं पाएंगे. वीडियो के बीच में यशराज यह भी बताते हैं कि इस बीट के साथ जो गाने के लिरिक्स रखे जाते हैं, वह घाघरा, चोली, ब्लाउज, लहंगा, पेटीकोट, कमरिया, सोशल मीडिया, फोन, रिंगटोन, टॉर्च या बल्ब. और इसके साथ 4 किलो ऑटोट्यून डाली जाती है, तब जाकर तैयार हो जाता है अपना भोजपुरी गाना. इस वीडियो में यशराज मुखाते अपनी 'कमरिया' को जबरदस्त तरीके से हिलाते नजर आ रहे हैं, जिसे देखने के बाद आपकी भी हंसी छूट जाएगी. 

कौन हैं यशराज?
बात करें यशराज मुखाते की तो वह औरंगाबाद में रहते हैं. उनकी उम्र 24 साल है. 2010 में अपनी स्कूल की पढ़ाई दसवीं तक औरंगाबाद के होली क्रॉस स्कूल से पूरी की और उसके बाद वह पॉलिटेक्निक औरंगाबाद के एमआईटी कॉलेज में पढ़े. पॉलिटेक्निक करने के बाद यशराज ने पुणे के सिंहगढ़ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से इलेक्ट्रॉनिक एंड टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में अपना ग्रेजुएशन पूरा किया. इंजीनियरिंग पूरी होने के बाद म्यूजिक में अपना करियर बनाने वह मुंबई आए थे, लेकिन कुछ कारणों की वजह से उन्हें दोबारा औरंगाबाद वापस जाना पड़ा. यशराज को बचपन से ही म्यूजिक का शौक है. उन्होंने अपना पहला स्टेज शो अपने पिता के साथ तीन साल की उम्र में किया था. स्कूल और कॉलेज में भी यशराज ने म्यूजिक में अवॉर्ड हासिल किए. यशराज ने अपने घर में ही एक स्टूडियो भी बनाया है जहां पर वह अपने म्यूजिक प्रोडक्शन का काम करते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें