scorecardresearch
 
एंटरटेनमेंट न्यूज़

पाकिस्तानी लोगों से परेशान टिकटॉक स्टार, सोशल मीडिया पर किया देश छोड़ने का ऐलान

जन्नत मिर्जा
  • 1/8

पाकिस्तान की टिकटॉक स्टार जन्नत मिर्जा पाकिस्तान से जापान शिफ्ट हो चुकी हैं. 22 साल की जन्नत पहली ऐसी पाकिस्तानी यूजर हैं जिसके टिकटॉक पर 10 मिलियन से अधिक फॉलोअर्स हैं, ऐसे में फैंस उनके फैसले से परेशान हैं. उनके इंस्टाग्राम पर 1 मिलियन से भी अधिक फॉलोअर्स हैं और उनकी तस्वीरें अक्सर फैंस के बीच वायरल होती हैं.

जन्नत मिर्जा
  • 2/8

जन्नत ने हाल ही में शेयर किया था कि जब पाकिस्तान में टिकटॉक पर बैन लगा था तब वे जापान में थीं. जन्नत ने अब साफ किया है कि उन्होंने फैसला कर लिया है कि वे जापान में ही रहेंगीं. 

जन्नत मिर्जा
  • 3/8


जन्नत ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की थी जहां कई फैंस ने उनसे पूछा कि वे वापस पाकिस्तान कब आ रही हैं. मिर्जा ने इस सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि वे जापान शिफ्ट कर चुकी हैं. 

जन्नत मिर्जा
  • 4/8

जन्नत ने इस फैसले का कारण बताते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा पाकिस्तानी लोगों की खराब मानसिकता के चलते किया है. 
जन्नत से एक फैन ने पूछा था कि आप क्यों पाकिस्तान छोड़ रहे हो? इस पर जन्नत ने कहा था- क्योंकि पाकिस्तान बहुत प्यारा और अच्छा है लेकिन पाकिस्तान के लोगों की मानसिकता अच्छी नहीं.

जन्नत मिर्जा
  • 5/8

इससे पहले जन्नत मिर्जा ने पाकिस्तान में टिकटॉक के बैन को सपोर्ट किया था. उन्होंने कहा था कि मैं खुद पाकिस्तान में टिकटॉक के प्रतिबंध को चाहती थी लेकिन इसे पर्मानेंट बेसिस पर नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा था- मुझे पाकिस्तान में टिकटॉक बैन की खबर मिली है फिलहाल मैं जापान में हूं

जन्नत मिर्जा
  • 6/8

जन्नत ने ये भी कहा कि कई लोगों की रोजी-रोटी भी इस एप्लिकेशन से चलती है और इस एप के चलते कई नए टैलेंटेड लोगों के बारे में पता चलता है. हालांकि इस एप पर कुछ वीडियोज की क्वालिटी घटिया भी होती है.

जन्नत मिर्जा
  • 7/8


मिर्जा ने कहा था कि फिलहाल टिकटॉक पर प्रतिबंध आवश्यक है लेकिन टिकटॉक पर कंटेंट को लेकर एक मानक संचालन प्रक्रिया का गठन किया जाना चाहिए और इस एप पर आने वाली वीडियोज की निगरानी की जानी चाहिए.

जन्नत मिर्जा
  • 8/8

मिर्जा ने कहा कि इस एप्लिकेशन को लेकर कुछ जरूरी कदम उठाने के बाद टिकटॉक बैन को हटाया जा सकता है. गौरतलब है कि पाकिस्तान से पहले भारत में भी टिकटॉक को बैन किया जा चुका है.