scorecardresearch
 

केबीसी में इमोशनल हुए रितेश, कहा- पिता को अंगदान नहीं कर पाया था

रितेश देशमुख ने कहा कि कुछ चीजें होती हैं जो सिर्फ किस्मत पर निर्भर होती है. डॉक्टर्स ने रितेश को कहा था कि उनके पिता को लीवर ट्रांसप्लांट की जरूरत थी और उनके परिवार को उम्मीद थी कि उन्हें ये आसानी से मिल जाएगा. रितेश ने अपने पिता के लिए डोनर बनने का फैसला किया था

X
रितेश और जेनेलिया देशमुख
रितेश और जेनेलिया देशमुख

गौरतलब है कि केबीसी 12 के लेटेस्ट कर्मवीर एपिसोड में संस्था मोहन फाउंडेशन के जरिए अंगदान को बढ़ावा देने वाले डॉक्टर सुनील श्रॉफ भी पहुंचे. उनके साथ एक्टर रितेश देशमुख भी स्पेशल गेस्ट के तौर पर आए थे. . अमिताभ बच्चन ये भी बताते हैं कि वे पहले से ही अंगदान का समर्थन करते रहे हैं. अमिताभ ने कहा कि उन्होंने और उनकी पत्नी जया बच्चन ने पहले से ही अपनी आंखें दान करने का फैसला किया है वही रितेश ने अपने पिता से जुड़ी एक इमोशनल घटना को शेयर किया. 

रितेश देशमुख ने कहा कि कुछ चीजें होती हैं जो सिर्फ किस्मत पर निर्भर होती है. उन्होंने आगे बताया कि डॉक्टर्स ने कहा था कि उनके पिता को लीवर ट्रांसप्लांट की जरूरत थी और उनके परिवार को उम्मीद थी कि उन्हें ये आसानी से मिल जाएगा. उन्होंने अपने पिता के लिए डोनर बनने का फैसला किया था लेकिन मेडिकल जटिलताओं की वजह से वे ऐसा नहीं कर सके.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

आई Love You... Happy Birthday!

A post shared by Riteish Deshmukh (@riteishd) on

ज्यादा से ज्यादा लोगों को करना चाहिए अंगदान: रितेश

रितेश ने ऑर्गन डोनेशन और ट्रांसप्लांट के बारे में बात करते हुए कहा कि अंगदान के लिए मरीजों की लिस्ट बनाई जाती है और जिन मरीजों के हालात ज्यादा संवेदनशील होते हैं, उन्हें अंगदान की प्रक्रिया में प्राथमिकता दी जाती है. रितेश ने कहा कि अंगदान के लिए मरीज का काफी ज्यादा क्रिटिकल हालातों में होना जरूरी होता है. यही कारण है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को अंगदान के लिए सामने आना चाहिए और जिस भी मरीज को ऑर्गन ट्रांसप्लांट की जरूरत है, उसे इस चीज की सुविधा मुहैया होनी चाहिए. 


 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें