scorecardresearch
 

स्कूल फीस भरने के लिए बर्तन बेचते थे बॉलीवुड के बैडमैन, भूखे पेट गुजरी कई रातें

बचपन में गरीबी में दिन गुजारने वाले गुलशन ग्रोवर ने ना सिर्फ बॉलीवुड बल्कि हॉलीवुड, जर्मन, ऑस्ट्रेलियन, पोलिश, कनेडियन, ईरानी, मलेशियन, ब्रिटेन और नेपाली फिल्मों सहित भारत की भी विभिन्न भाषाओं में भी काम किया है.

गुलशन ग्रोवर गुलशन ग्रोवर

बॉलीवुड के बैडमैन गुलशन ग्रोवर आज 65 साल के हो चुके हैं. बचपन में गरीबी में दिन गुजारने वाले गुलशन ने ना सिर्फ बॉलीवुड बल्कि हॉलीवुड, जर्मन, ऑस्ट्रेलियन, पोलिश, कनेडियन, ईरानी, मलेशियन, ब्रिटेन और नेपाली फिल्मों सहित भारत की भी विभिन्न भाषाओं में भी काम किया है. फर्श से अर्श तक का सफर तय करने वाले गुलशन ने अपने करियर में 400 से अधिक फिल्मों में काम किया और फिल्मों में विलेन की भूमिकाओं को एक अलग स्तर पर पहुंचाया. हालांकि गुलशन के लिए ये सब इतना आसान नहीं था. 

गुलशन का स्कूल दोपहर का होता था लेकिन वे सुबह ही बस्ते में स्कूल की यूनिफॉर्म रखकर घर से निकल जाया करते थे. वे हर सुबह अपने घर से दूर बड़ी-बड़ी कोठियों में बर्तन और कपड़े धोने वाले डिटर्जेंट पाउडर बेचा करते थे. वे इन सबके सहारे पैसा कमाते थे ताकि उनकी स्कूल की फीस का खर्चा निकल सके. गुलशन के पिता ने उन्हें हमेशा मेहनत और ईमानदारी के रास्ते के लिए प्रेरित किया इसलिए वे कभी गरीबी से घबराए नहीं. कॉलेज तक भी गुलशन का यही हाल रहा. मुंबई एक्टिंग के लिए आए, तब भी गुलशन को काफी कड़ा संघर्ष करना पड़ा लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी. धैर्य और मेहनत के चलते ही वे आज इस मकाम पर हैं.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

#Badman #iwillbeback #Sooryavanshi #Hollywood

A post shared by Gulshan Grover (@gulshangrover) on

अमरीश पुरी और प्राण जैसे सितारों की एक्टिंग से काफी कुछ सीखा

दिल्ली के एक पंजाबी परिवार में जन्मे गुलशन की पहली फिल्म 1980 में आई फिल्म 'हम पांच' थी हालांकि संजय दत्त की पहली फिल्म रॉकी की शूटिंग उन्होंने पहले शुरू की थी. गुलशन को एक्टिंग का शौक था इसलिए वे थिएटर में काम करते रहे. उन्होंने प्रेमनाथ, प्राण, अमरीश पुरी जैसे लेजेंडरी विलेन्स की एक्टिंग से काफी कुछ सीखा और अपना खुद का विलेन का एक स्टाइल क्रिएट किया. हालांकि गुलशन मानते हैं कि आज के दौर में विलेन की प्रासंगकिता काफी कम हुई है और विलेन कॉमिक रोल्स भी कर रहे हैं वहीं हीरो भी कई तरह के ग्रे शेड्स रोल में नजर आने लगे हैं. ऐसे में खलनायकों का दौर बॉलीवुड में अब कम ही देखने को मिलता है.   

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें