scorecardresearch
 

25 साल तक कांग्रेस में रहे इन नेताओं को राहुल ने बताया 'कचरा'

राहुल ने उन नेताओं को ही कचरा बता डाला जो कभी उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते थे. राहुल ने ये भी कहा कि हमने अपनी पार्टी से जो कचरा फेंका था वो मोदी जी ने उठाकर बीजेपी में रख लिया.

वियज बहुगुणा, यशपाल आर्या, हरक सिंह रावत वियज बहुगुणा, यशपाल आर्या, हरक सिंह रावत

दल बदलने पर नेताओं के दिल कैसे बदलते होंगे ये तो कहना मुश्किल है, लेकिन जुबान जरूर बदल जाती है. रविवार को उत्तारखंड में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी दल बदलने वाले कुछ नेताओं पर टिप्पणी की. राहुल ने उन नेताओं को ही कचरा बता डाला जो कभी उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते थे. राहुल ने ये भी कहा कि हमने अपनी पार्टी से जो कचरा फेंका था वो मोदी जी ने उठाकर बीजेपी में रख लिया. बता दें इनमें कई ऐसे नेता भी हैं जो करीब 25 साल तक कांग्रेस में रहे और अब बीजेपी के साथ हैं.

राहुल ने किसे कहा 'कचरा'
हरिद्वार में रोड शो के दौरान राहुल गांधी ने कांग्रेस छोड़ने वाले नेताओं को 'कचरा' कह डाला. इतना ही नहीं राहुल गांधी ने ये भी कहा कि हमने अपनी पार्टी से जो 'कचरा' उठा कर बाहर फेंका था वो मोदी जी ने बीजेपी में रख लिया. रोड शो में राहुल गांधी ने ये भी कहा कि मैंने हरीश रावत जी से भ्रष्ट लोगों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है.

इन नेताओं ने छोड़ी कांग्रेस
दरअसल उत्तराखंड में कांग्रेस के कई नेताओं ने बागी तेवर दिखाते हुए पार्टी छोड़ दी थी. इनमें कई नेता ऐसे हैं जो उत्तराखंड कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार किए जाते थे और अब उन्होंने बीजेपी का दामन थामन लिया है.

1. यशपाल आर्या
यशपाल आर्या उत्तराखंड में कांग्रेस का सबसे बड़ा दलित चेहरा रहे. इन्होंने अपने राजनीतिक करियर का पूरा हिस्सा कांग्रेस में रहकर बिताया. 2012 में जब उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार बनी तब यशपाल आर्या प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष थे. फिलहाल बीजेपी के टिकट पर अपनी परंपरागत सीट बाजपुर से चुनाव लड़ रहे हैं. 25 सालों तक कांग्रेस में रहे.

2. विजय बहुगुणा
विजय बहुगुणा 2012 में उत्तराखंड की सरकार आने के बाद मुख्यमंत्री बने थे. इनके पिता स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा से लेकर बहन रीता बहुगुणा जोशी कांग्रेस में रहे. मौजूदा मुख्यमंत्री हरीश रावत से टकराव की स्थिति पैदा होने के बाद इन्होंने कांग्रेस का साथ छोड़कर बीजेपी ज्वाइन कर ली.

3. हरक सिंह रावत
उत्तराखंड के तेज तर्रार नेताओं में हरक सिंह का नाम शुमार किया जाता है. विजय बहुगुणा जब मुख्यमंत्री बने तो इन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया. हरक सिंह रावत ने विजय बहुगुणा के साथ मिलकर कांग्रेस छोड़ दी और बीजेपी का दामन थाम लिया. हरक सिंह कोटद्वार सीट से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं.

उत्तराखंड की राजनीति के ये वो दिग्गज नेता हैं जिन्होंने कांग्रेस के साथ लंबा सफर तय किया. अब जब ये नेता बीजेपी में चले गए हैं तो राहुल गांधी को ये कचरा नजर आते हैं.
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें