scorecardresearch
 

Baheri Assembly Seat: बीजेपी के छत्रपाल गंगवार हैं विधायक, इस बार क्या होगा?

बहेड़ी विधानसभा सीट की गिनती मुस्लिम बाहुल्य सीटों में होती है. बरेली जिले की इस सीट से सूबे की सरकार में मंत्री छत्रपाल गंगवार विधायक हैं. बीजेपी ने इस बार भी छत्रपाल गंगवार को ही चुनाव मैदान में उतारा है.

X
यूपी Assembly Election 2022 बहेड़ी विधानसभा सीट यूपी Assembly Election 2022 बहेड़ी विधानसभा सीट
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बरेली जिले की सीट है बहेड़ी विधानसभा
  • सूबे की सरकार में मंत्री हैं छत्रपाल गंगवार

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले की बहेड़ी विधानसभा सीट कभी नैनीताल लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा हुआ करती थी. इस समय ये सीट पीलीभीत संसदीय सीट का अंग है. बहेड़ी हिमालयी क्षेत्र का तराई इलाका है. ये विधानसभा क्षेत्र पड़ोसी राज्य उत्तराखंड के साथ सीमा साझा करता है. दलदल वाले इलाकों में पाई जाने वाली बहेड़ा घास के नाम पर इस इलाके का नामकरण बहेड़ी हुआ था.

राजनीतिक पृष्ठभूमि

बहेड़ी विधानसभा सीट की राजनीतिक पृष्ठभूमि की बात करें तो राज्य विभाजन और उत्तराखंड राज्य के गठन से पहले इसे कुमाऊं मंडल का प्रवेश द्वार कहा जाता था. इस विधानसभा क्षेत्र में एक नगरपालिका क्षेत्र को छोड़ दें अधिकांश इलाके ग्रामीण हैं. इस सीट के लिए 1957 में पहली दफे विधानसभा चतुनाव हुआ था. 1957, 1962 और 1967 में इस सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार जीते थे. 1969 के चुनाव में यहां क्रांति दल ने जीत हासिल की. 1974 और 1977 के चुनाव में यहां कांग्रेस ने फिर से कब्जा कर लिया.

बहेड़ी विधानसभा सीट से 1980 में निर्दलीय अम्बा प्रसाद को जीत मिली. 1985 में अम्बा प्रसाद कांग्रेस के टिकट पर जीते. 1989 में निर्दलीय मंजूर अहमद जीते. इस सीट से 1991 और 1996 में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के हरीश चन्द्र गंगवार, 1993 और 2002 में समाजवादी पार्टी (सपा) के मंजूर अहमद, 2002 के अंत में हुए उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के अताउर रहमान, 2007 में बीजेपी के छत्रपाल सिंह गंगवार और 2012 में सपा के टिकट पर अताउर रहमान जीते.

2017 का जनादेश

बहेड़ी विधानसभा सीट से साल 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने अपने पूर्व विधायक छत्रपाल सिंह गंगवार को चुनाव मैदान में उतारा. बीजेपी के छत्रपाल गंगवार के सामने सपा से तब के निवर्तमान विधायक अताउर रहमान और बसपा से नसीम अहमद थे. बीजेपी के छत्रपाल ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी बसपा के नसीम को 42 हजार वोट से अधिक के अंतर से हरा दिया था. सपा के अताउर रहमान तीसरे स्थान पर रहे थे.

सामाजिक ताना-बाना

बहेड़ी विधानसभा सीट के सामाजिक समीकरणों की बात करें तो ये विधानसभा क्षेत्र भी कुर्मी बाहुल्य क्षेत्र माना जाता है. इस इलाके में भारत और पाकिस्तान के बंटवारे के समय पंजाब से पलायन कर आए जाट और सिख समुदाय के लोगों को सरकार ने जमीन देकर बसा दिया था. इस इलाके में सिख और जाट बिरादरी के मतदाता भी अच्छी तादाद में हैं.  इस विधानसभा सीट का चुनाव परिणाम तय करने में मुस्लिम मतदाता भी निर्मायक भूमिका निभाते हैं.

विधायक का रिपोर्ट कार्ड

बहेड़ी सीट से विधायक छत्रपाल गंगवार सूबे की सरकार में मंत्री भी हैं. छत्रपाल गंगवार का दावा है कि उनके कार्यकाल में इलाके का चहुंमुखी विकास हुआ है. विपक्षी दलों के नेता उनके दावों को हवा-हवाई बता रहे हैं. इस विधानसभा सीट के लिए 14 फरवरी को मतदान होना है. बीजेपी ने अपने निवर्तमान विधायक छत्रपाल गंगवार पर दांव लगाया है तो वहीं बसपा से आसेराम गंगवार और कांग्रेस से संतोष भारती ताल ठोक रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें