scorecardresearch
 

पेंशन को लेकर अरविंद केजरीवाल ने गुजरात की जनता को बड़ा वादा किया

गुजरात चुनाव को देखते हुए आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बड़ा ऐलान कर दिया है. उन्होंने कहा है कि आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर पुरानी पेंशन को राज्य में फिर बहाल किया जाएगा. उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि बीजेपी की सरकार ने पिछले 27 साल में काफी भ्रष्टाचार किया है

X
आप संयोजक अरविंद केजरीवाल आप संयोजक अरविंद केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने ऐलान किया है कि गुजरात में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर पुरानी पेंशन स्कीम बहाल की जाएगी. मंगलवार को वडोदरा में यह एलान करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकारी कर्मचारी पुरानी पेंशन की मांग को लेकर सड़कों पर हैं और वे बहुत दुखी और गुस्से में हैं. जैसे पंजाब में हमारी सरकार ने पुरानी पेंशन लागू करने का आदेश कर दिया है. वैसे ही हम गुजरात में भी इसे लागू करेंगे. गुजरात सरकार पुरानी पेंशन लागू कर देती है, तो कर दे और अगर नहीं करती है, तो हम लागू करेंगे.

अरविंद केजरीवाल ने गुजरात पहुंचकर BJP पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि 27 साल से सत्ता में रहने के कारण इनके अंदर अहंकार आ गया है. इसलिए इस बार इनको हटाना बहुत जरूरी है. ये लोग बार-बार आकर एक मौका मांगते हैं, लेकिन हम सिर्फ एक ही मौका मांग रहे हैं. अगली बार आकर हम यही कहेंगे कि अच्छा काम किया है, तभी वोट देना. 

गुजरात दौरे पर आए आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने अभिभावकों और शिक्षकों के साथ टाउन हॉल मीटिंग में शिक्षा पर संवाद भी किया. उन्होंने कहा कि पिछले कई दिनों से गुजरात के सरकारी कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं. जिस तरह से कलेक्टेरियेट का घेराव किया गया और इतनी बड़ी संख्या में सरकारी कर्मचारी सड़कों पर हैं. इससे साफ है कि सभी सरकारी कर्मचारी बहुत दुखी और गुस्से में हैं. ऐसा पहली बार देखा गया है. सरकारी कर्मचारियों की मुख्य मांग पुरानी पेंशन को बहाल करने की है. मैं सभी सरकारी कर्मचारियों को आश्वासन और गारंटी देता हूं कि आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी, तो गुजरात के अंदर हम पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करेंगे. 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किसी भी राज्य के अंदर चुनाव जिताने या हराने में वहां के सरकारी कर्मचारी बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं. उनसे हम निवेदन हैं कि ये सरकार भ्रष्टाचारी है, सारे गलत काम करती है और जन विरोधी है. इस सरकार को सत्ता में रहते 27 साल हो गए हैं और अब इनके अंदर अहंकार आ गया है. एक बार इनको हटाना बहुत जरूरी है. गुजरात के सभी लोग मिलकर इनको हटाने की तैयारी करें और अगले दो महीने तक इसी दिशा में काम करें. अगर छुट्टी लेनी पड़े, तो छुट्टी भी लें और इस सरकार को हटाएं. हम गुजरात की जनता से एक ही मौका मांग रहे हैं. ये लोग तो बार-बार आकर यही कहते हैं कि एक मौका और दे दो. हम जब अगली बार आएंगे, तो यही कहेंगे कि अच्छा काम किया है, तभी हमें सत्ता में दुबारा लाना, वरना मत लाना. हम सिर्फ एक मौका मांग रहे हैं. सभी सरकारी कर्मचारियों से प्रचार में लग जाने के लिए निवेदन कर रहा हूं. सभी लोग अंदरखाने प्रचार करें. क्योंकि खुलकर सरकारी कर्मचारी प्रचार नहीं कर सकते. 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि गुजरात में एक बात बहुत ही दिलचस्प देखने को मिल रही है कि ये दोनों पार्टियां हमारे खिलाफ इकट्ठी हो गई हैं और मेरे को खूब गालियां देती हैं कि केजरीवाल झूठा है, आतंकवादी है. दोनों ही पार्टियों की भाषा और शब्द भी एक ही है. मेरा कसूर क्या है? मैं गुजरात के लोगों की महंगाई दूर करने की बात कहता हूं. तो ये कहते हैं कि केजरीवाल कमीना है. आज गुजरात में एक्स आर्मी वाले प्रदर्शन कर रहे हैं, फारेस्ट गार्ड प्रदर्शन कर रहे हैं. मैंने एक वीडियो देखा, जिसमें खाकी वर्दी वाले खाकी वर्दी वालों के खिलाफ लड़ रहे हैं. यह अच्छी बात नहीं है. नेशनल हेल्थ मिशन के कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं. एलआरडी वेटिंग वाले प्रदर्शन कर रहे हैं. गांव-गांव के बीसी आए हुए हैं, वो प्रदर्शन कर रहे हैं. शिक्षक और किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. ऐसा लग रहा है कि पूरा गुजरात सड़कों पर है. इन सभी से निवेदन करते हुए आश्वासन देना चाहता हूं कि जैसे ही आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी, हम आपके सारे मुद्दों का समाधान करेंगे.

इस दौरान अरविंद केजरीवाल ने गुजरात में आम आदमी पार्टी के कार्यक्रम की बुकिंग रद्द किए जाने का आरोप भी लगाया है. उन्होंने कहा कि जब हमने वडोदरा में शिक्षा पर संवाद करने का एलान किया, तो इसके लिए पिछले 4-5 दिन में 13 जगह हम लोगों ने हॉल बुक करने की कोशिश की और हर जगह मालिक को फोन कर बुकिंग कैंसिल करने की धमकी दी गई. 13 जगह बुकिंग कैंसिल होने के बाद 14वीं जगह बुकिंग हो पाई है. जिन 13 लोगों ने बुकिंग कैंसिल की, वो उनकी पार्टी को खूब गालियां दे रहे हैं. वो कह रहे हैं कि हम आम आदमी पार्टी के साथ हैं, लेकिन हिम्मत नहीं हो रही है. ये लोग सोचते हैं कि यह देश इतना कमजोर है कि धमका देंगे, तो शिक्षा पर संवाद नहीं हो पाएगा. शिक्षा पर संवाद भी होगा, गुजरात के स्कूल भी अब ठीक होंगे और बच्चों का भविष्य भी बनेगा. ये रोक सकें तो रोक लें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें