scorecardresearch
 

Delhi Elections 2020: BJP को बाबरपुर में वापसी का इंतजार, गोपाल राय देंगे टक्कर

Delhi Elections 2020 (Babarpur Assembly seat): बीजेपी के दिग्‍गज नेता नरेश गौड़ इस सीट से कुल 4 बार विधायक चुने गए हैं. वो 1993 से जीतते आ रहे हैं. हालांकि 2003 के दिल्ली चुनाव में वो कांग्रेस उम्मीदवार विनय शर्मा से हार गए थे. लेकिन उसके बाद 2008 और 2013 में एक बार फिर से जीते.

Delhi Elections 2020: बीजेपी की होगी वापसी? Delhi Elections 2020: बीजेपी की होगी वापसी?

Delhi Elections 2020 (Babarpur Assembly seat): बाबरपुर विधानसभा क्षेत्र, उत्‍तर पूर्व दिल्‍ली लोकसभा अंतर्गत आता है. यह सीट बीजेपी की पारंपरिक सीट रही है. बीजेपी के दिग्‍गज नेता नरेश गौड़ इस सीट से कुल 4 बार विधायक चुने गए हैं. वो 1993 से जीतते आ रहे हैं. हालांकि 2003 के दिल्ली चुनाव में वो कांग्रेस उम्मीदवार विनय शर्मा से हार गए थे.

उसके बाद 2008 और 2013 में एक बार फिर से जीते. लेकिन 2015 में आम आदमी पार्टी की लहर में गोपाल राय विधायक चुने गए. उन्हें कुल 75,928 वोट मिले थे. वहीं पूर्व विजेता नरेश गौड़ को मात्र 40,440 वोट मिला. यानी AAP उम्मीदवार 35,488 वोटों के बड़े अतंर से जीत दर्ज करने में कामयाब रहे.

बता दें, 2015 के आंकड़ों के मुताबिक इस विधानसभा क्षेत्र में कुल 1,92,358 मतदाता है. इनमें से 1,05,238 पुरुष मतदाताओं ने और 87,092 महिला मतदाताओं ने वोट किए थे.

इनके बीच है मुकाबला

आम आदमी पार्टी ने एक बार फिर से पुराने उम्मीदवार और मौजूदा विधायक गोपाल राय पर भरोसा जताते हुए उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं बीजेपी ने भी पुराने चेहरे को महत्व देते हुए नरेश गौड़ को तो कांग्रेस ने अनवीक्षा त्रिपाठी जैन पर भरोसा जताया है.

पिछले चुनाव में AAP को मिली थीं 67 सीटें

बता दें कि 2013 विधानसभा चुनाव में दिल्ली में पहली बार आम आदमी पार्टी की सरकार बनी थी. हालांकि इस चुनाव में आम आदमी पार्टी को 28 सीटें ही मिली थीं लेकिन कांग्रेस ने अपनी सात सीटों के समर्थन से उसे सरकार बनाने में मदद की थी.

अरविंद केजरीवाल को सरकार बनाने का मौका दिया. वहीं 32 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में सामने आने वाली बीजेपी विपक्ष की भूमिका में रही. लेकिन यह सरकार लंबे समय तक चल नहीं पाई और 49 दिनों बाद केजरीवाल ने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया. जिसके बाद कुछ दिनों तक राज्य में राष्ट्रपति शासन रहा और फिर 2015 में एक बार फिर से चुनाव हुआ.

2015 विधानसभा चुनाव में आप ने दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से 67 सीटों पर ऐतिहासिक जीत हासिल की और केजरीवाल फिर से मुख्यमंत्री बन गए.

दिल्ली में कुल वोटर्स की संख्या

चुनाव आयोग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक दिल्ली में कुल 1,46,92,136 मतदाता रजिस्टर्ड हैं. वहीं वोट डालने के लिए चुनाव आयोग ने कुल 2,698 वोटिंग केंद्र बनाए हैं, जबकि 13,750 पोलिंग स्टेशन.  

इस बार दिल्ली में कुल 80,55,686 पुरुष मतदाता, 66,35,635 महिला मतदाता और 815 थर्ड जेंडर मतदाता शामिल होंगे. वहीं चुनाव आयोग ने इस बार कुल 55,823 दिव्यांग वोटर्स को मतदान कराने के लिए अलग से व्यवस्था की है.

इस बार चुनाव आयोग को 489 NRI (नॉन रेसिडेंट ऑफ इंडिया) यानी कि विदेशों में रहने वाले भारतीय वोटर्स के मतदान की भी उम्मीद है.

वहीं दिल्ली में सर्विस वोटर्स की बात करें तो 11,556 वोटर्स में 9,820 केवल पुरुष मतदाता हैं.

दिल्ली विधानसभा चुनाव से जुड़ी अपडेट्स के लिए यहां Click करें

कब होगी मतगणना?

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की पहली पूर्ण विधानसभा का गठन नवंबर 1993 में हुआ था. इससे पहले दिल्ली में मंत्रिपरिषद की व्यवस्था हुआ करती थी. 70 सदस्यीय विधानसभा में एक चरण में मतदान हो रहा है.

8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे जबकि मतगणना 11 फरवरी को होगी. दिल्ली विधानसभा का कार्यकाल 22 फरवरी 2020 को समाप्त हो रहा है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें