scorecardresearch
 

सूर्यगढ़ा विधानसभा सीट: बीजेपी की नजर वापसी पर, 2015 की हार का लेगी बदला!

सूर्यगढ़ा में विधानसभा का पहला चुनाव साल 1957 में हुआ था. यहां पर तब सीपीआई को जीत मिली थी. हालांकि, अगले चुनाव में यहां पर कांग्रेस विजयी होती है.

2015 के चुनाव में बीजेपी को मिली थी हार (फाइल फोटो) 2015 के चुनाव में बीजेपी को मिली थी हार (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सूर्यगढ़ा में हुए शुरुआती चुनावों में सीपीआई को मिली थी जीत
  • अब आरजेडी और बीजेपी के बीच ही होता है मुकाबला
  • 2015 के चुनाव में आरजेडी को मिली थी जीत

बिहार की सूर्यगढ़ा विधानसभा सीट कभी सीपीआई का गढ़ हुआ करती थी. एक ओर जहां बीजेपी और आरजेडी मजबूत होती गई तो वहीं सीपीआई का ग्राफ नीचे गिरता गया. सीपीआई को शुरुआती चुनावों में तो यहां पर जीत मिली, लेकिन बीजेपी की एंट्री के बाद वो कमजोर होती गई. सूर्यगढ़ा में मुकाबला बीजेपी और आरजेडी के बीच ही होता है. 2015 के चुनाव में आरजेडी के प्रह्लाद यादव ने बीजेपी के प्रेम रंजन पटेल को मात दी थी. ऐसे में इस बार बीजेपी की नजर आरजेडी से बदला लेने पर होगी. 

राजनीतिक पृष्ठभूमि

सूर्यगढ़ा में विधानसभा का पहला चुनाव साल 1957 में हुआ था. यहां पर तब सीपीआई को जीत मिली थी. हालांकि, अगले चुनाव में यहां पर कांग्रेस विजयी होती है. सीपीआई 1967 में एक बार सूर्यगढ़ा में वापसी करती है और बीपी मेहता यहां के विधायक चुने जाते हैं.

1967 और 1972 का चुनाव जीतने के बाद सीपीआई को 1977 के चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार रामजी प्रसाद के हाथों हार मिलती है और 1990 तक सीपीआई को जीत का इंतजार करना पड़ा.

तब सतीश कुमार ने बीजेपी के प्रसिद्ध नारायण सिंह को मात दी थी. सीपीआई की ये यहां पर आखिरी जीत थी. हाल के चुनावों पर नजर डालें तो यहां पर मुकाबला बीजेपी और आरजेडी के बीच हुआ है. 1995 से 2015 के चुनाव तक यहां पर सिर्फ दो नेताओं को जादू चला है. 1995, 2000, 2005 और 2015 का चुनाव आरजेडी के प्रह्लाद यादव ने जीता तो वहीं 2005 का उपचुनाव और 2010 का चुनाव बीजेपी के प्रेम रंजन पटेल के नाम रहा. इस सीट पर हुए अब तक 15 चुनावों में सीपीआई को 4, आरजेडी को 3, बीजेपी को 2 और कांग्रेस को 3 बार जीत मिली है.

सामाजिक ताना-बाना

2011 की जनगणना के अनुसार, सूर्यगढ़ा की जनसंख्या 478679 है. अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) का अनुपात कुल जनसंख्या में से क्रमशः 14.76 और 1.63 है.

विधायक के बारे में

आरजेडी के प्रह्लाद यादव सूर्यगढ़ा के विधायक हैं. 1 मई 1960 को जन्मे प्रह्लाद यादव की शैक्षणिक योग्यता स्नातक है. उन्होंने 1980 में अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत की. वह जेपी आंदोलन के दौरान जेल भी गए थे. साल 1995 में चुनाव जीतकर प्रह्लाद यादव पहली बार विधानसभा पहुंचे. वह लखीसराय में आरजेडी के जिलाध्यक्ष रह चुके हैं.

2015 का जनादेश

सूर्यगढ़ा में 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में 164367 वोटर्स थे. इसमें से 54.08 फीसदी पुरुष और 45.92 महिला वोटर्स थीं. सूर्यगढ़ा में 164367 लोगों ने वोट डाला था. यहां पर 51 फीसदी वोटिंग हुई थी. इस चुनाव में आरजेडी के प्रह्लाद यादव ने बीजेपी के प्रेम रंजन पटेल को मात दी थी.

प्रह्लाद यादव को 82490 (50.2 फीसदी) और प्रेम रंजन पटेल को 52460 (31.92 फीसदी) वोट मिले थे. प्रह्लाद यादव ने 20 हजार से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की थी. वहीं सीपीआई यहां पर तीसरे स्थान पर थी.  

ये प्रत्याशी हैं मैदान में

सूर्यगढ़ा विधानसभा सीट पर 19 उम्मीदवार मैदान में हैं. यहां से आरजेडी के प्रह्लाद यादव और जेडीयू के रामानंद मंडल प्रत्याशी हैं. प्रह्लाद यादव यहां के मौजूदा विधायक हैं. 

कब होगी वोटिंग

सूर्यगढ़ा में पहले चरण के तहत मतदान होगा. यहां पर 28 अक्टूबर को वोटिंग होगी. वहीं, मतगणना 10 नवंबर को की जाएगी.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें