scorecardresearch
 

मधुबन विधानसभा सीटः पिछली बार जीती थी बीजेपी, इस बार रोमांचक रहेगा मुकाबला

2015 में हुए विधानसभा चुनाव में मधुबन विधानसभा सीट की बात की जाए तो इस सीट पर कुल 2,33,670 मतदाता थे जिसमें 1,24,646 पुरुष और 1,09,011 महिला मतदाता शामिल थे. 2,33,670 में से 1,38,934 मतदाताओं ने वोट डाले जिसमें 1,34,268 वोट वैध माने गए.

मधुबन विधानसभा सीट पर हो सकता है कड़ा मुकाबला (सांकेतिक-पीटीआई) मधुबन विधानसभा सीट पर हो सकता है कड़ा मुकाबला (सांकेतिक-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 2015 के चुनाव में नोटा के पक्ष में पड़े 4,666 वोट
  • बीजेपी के राणा रणधीर ने हासिल की थी जीत
  • 12 उम्मीदवार मैदान में थे 2015 के चुनाव में

मधुबन विधानसभा सीट की बिहार विधानसभा में सीट क्रम संख्या 18 है. यह विधानसभा क्षेत्र पूर्वी चंपारण जिले में पड़ता है और यह शिवहर (लोकसभा) निर्वाचन क्षेत्र का एक हिस्सा है. 2008 में परिसीमन आयोग की सिफारिश के बाद मधुबन विधानसभा सीट में मधुबन, पकड़ीदयाल और फेनहारा सामुदायिक विकास केंद्र को शामिल किया गया.

2008 में परिसीमन के बाद मधुबन विधानसभा सीट सामान्य वर्ग सीट में बदल गई जबकि पहले यह सीट अनुसूचित जाति के लिए रिजर्व हुआ करती थी. मधुबन विधानसभा सीट पर 1990 तक ज्यादातर कांग्रेस और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के बीच संघर्ष हुआ करता था. कांग्रेस के शुरुआत में लगातार 2 बार चुनाव जीतने के बाद भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने लगातार जीत की हैट्रिक लगाई.

सीताराम के नाम हैट्रिक

1977 में कांग्रेस ने फिर से वापसी की और 1980 के चुनाव में भी सीट पर कब्जा बनाए रखा. 1985 में जीत जेएनपी पार्टी के खाते में गई लेकिन 1990 के चुनाव में जनता दल ने जीत की एंट्री मारी और 1995 में इसे अपने पास रखने में कामयाब रही. जनता दल के सीताराम सिंह लगातार 2 बार चुनाव जीतने के बाद राष्ट्रीय जनता दल में चले गए और 2000 के चुनाव में जीत हासिल करते हुए अपने नाम हैट्रिक लगा ली.

फरवरी 2005 में राष्ट्रीय जनता दल ने फिर से जीत (राणा रणधीर) हासिल की. लेकिन अक्टूबर 2005 के चुनाव में जनता दल यूनाइटेड के संजीव राय को जीत मिली और 2010 के चुनाव में भी वह विजयी रहे. हालांकि 2015 के चुनाव में संजीव राय महागठबंधन के उम्मीदवार थे लेकिन वह भारतीय जनता पार्टी के राणा रणधीर के हाथों चुनाव हार गए. राणा फरवरी 2005 के चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल के टिकट पर विजयी हुए थे.

2015 के चुनाव में 12 उम्मीदवार

2015 में हुए विधानसभा चुनाव में मधुबन विधानसभा सीट की बात की जाए तो इस सीट पर कुल 2,33,670 मतदाता थे जिसमें 1,24,646 पुरुष और 1,09,011 महिला मतदाता शामिल थे. 2,33,670 में से 1,38,934 मतदाताओं ने वोट डाले जिसमें 1,34,268 वोट वैध माने गए. इस सीट पर 59.5% मतदान हुआ था. जबकि नोटा के पक्ष में 4,666 लोगों ने वोट किया था.

मधुबन विधानसभा सीट पर 2015 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के राणा रणधीर ने जीत हासिल की थी. उन्होंने एकतरफा मुकाबले में जनता दल यूनाइटेड के संजीव राय को 16,222 मतों के अंतर से हराया था. राणा रणधीर को 43.9% वोट मिले जबकि संजीव राय को 32.3% वोट हासिल हुए. इस सीट पर 12 उम्मीदवार मैदान में थे जिसमें 3 निर्दलीय उम्मीदवार थे.

विधायक राणा रणधीर की शिक्षा के बारे में बात करें तो वह ग्रेजुएट हैं और 2015 में दाखिल हलफनामे के अनुसार उन पर कोई आपराधिक केस दर्ज नहीं है. उनके पास 93,85,172 रुपये की संपत्ति है, जबकि उन पर 8,47,176 रुपये की देनदारी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें