scorecardresearch
 

रुन्नीसैदपुर विधानसभा: NDA से लड़ाई में क्या दोबारा होगी RJD की सत्ता में वापसी?

बिहार की रुन्नीसैदपुर विधानसभा सीट से मंगिता देवी विधायक हैं. 2015 में हुए चुनाव में इन्होंने राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के प्रत्याशी पंकज कुमार मिश्रा को हराया था. इस चुनाव में वोट प्रतिशत 40.52 फीसदी रहा.

रुन्नीसैदपुर की विधायक मंगिता देवी (फाइल फोटो) रुन्नीसैदपुर की विधायक मंगिता देवी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रुन्नीसैदपुर की विधायक हैं मंगिता देवी
  • लालू यादव परिवार की हैं करीबी नेता
  • पंकज कुमार मिश्रा को हराकर मिली थी जीत

रुन्नीसैदपुर विधानसभा बिहार की 243 विधानसभा सीटों में से 29वें क्रमांक की है. इस विधानसभा सीट से राष्ट्रीय जनता दल(आरजेडी) की मंगिता देवी विधायक हैं. यह विधानसभा सीट सीतामढ़ी जिले के अंतर्गत आती है. इस सीट पर आरजेडी का दबदबा है.

रुन्नीसैदपुर बाढ़ से प्रभावित क्षेत्र है. बारिश के दिनों में स्थितियां बिगड़ जाती हैं. रुन्नीसैदपुर लखनदेई और बागमती नदी के बाढ़ से बेहाल रहता है. यह क्षेत्र आम के बागीचों के लिए प्रसिद्ध है. इस विधानसभा की गिनती सीतमाढ़ी जिले के पिछड़े इलाकों में होती है. 

2015 का चुनाव

2015 के विधानसभा चुनाव में आरजेडी प्रत्याशी मंगिता देवी को 55,699 वोट हासिल हुए थे, वहीं राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के प्रत्याशी पंकज कुमार मिश्रा को 41,589 वोट हासिल हुए थे. उस वक्त आरएलएसपी, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन का हिस्सा थी.  इस चुनाव में कुल 15 लोग चुनावी समर में उतरे थे, जिनमें से 3 महिलाएं थीं.

2015 के चुनाव में 10 लोगों की जमानत तक जब्त हो गई थी. विधानसभा में 53.60 फीसदी मत पड़े थे. तीसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी की गुड्डी देवी थीं. उन्हें कुल 16,038 वोट हासिल हुआ था, वहीं 7,249 लोगों ने नोटा का विकल्प चुना था. कुल 40.25 फीसदी वोट पड़े थे.

सीट का इतिहास

इस सीट पर अब तक कुल 17 बार चुनाव कराए गए हैं, जिनमें 2 उपचुनाव हैं. पहली बार जब यहां 1951 में वोट पड़े तो निर्दलीय उम्मीदवार विवेकानंद गिरी यहां से जीते थे. उन्होंने इंडियन नेशनल कांग्रेस के उम्मीदवार रत्नेश्वर नंद सिंह को हराया था. लगातार दो बार के चुनाव में यह सीट कांग्रेस के खाते में 1980 और 1984 के उपचुनाव में गई थी. फिर 1990 और 1995 के विधानसभा चुनाव में यह सीट जनता दल के हिस्से में गई. 

2000 में इस सीट पर जहां आरजेडी का खाता खुला, वहीं फरवरी 2005 में हुए चुनाव में भी दोबारा यह सीट आरजेडी के खाते में गई. तब दोनों बार भोला राय विधायक चुने गए थे. वहीं जब अक्टूबर 2005 में दोबारा उपचुनाव कराने पड़े तब जनता दल यूनाइटेड की गुड्डी देवी ने आरजेडी के भोला राय को हरा दिया. 2010 के चुनाव में फिर इस सीट पर गुड्डी देवी विजेता बनीं. उन्होंने आरजेडी के राम शत्रुघ्न राय को मात दी. तब गुड्डी देवी को कुल 36,125 मत पड़े थे, वहीं राम शत्रुघ्न राय को 25,366 वोट पड़े थे.

सामाजिक ताना-बाना

इस विधानसभा में कुल 2,56,495 वोटर्स हैं. 1,37,593 पुरुष वोटर और 1,18,895 महिला वोटर्स है. 7 ट्रांसजेंडर समुदाय के वोटर हैं. यहां के वोटरों के लिए प्रमुख चुनावी मुद्दों में बेरोजगारी और बदहाल अस्पताल व्यवस्था पहली प्राथमिकता है. कोरोना काल में अस्पतालों की बदहाल व्यवस्था के लिए मौजूदा विधायक मंगिता देवी भी नीतीश सरकार को कोस रही हैं.

विधायक के बारे में 

मंगिता देवी का जन्म 6 अप्रैल 1981 को मोतिहारी गांव के कुदरकट गांव में हुआ था. इनके पति भारत भूषण भी आरजेडी के नेता रहे हैं. ये स्नातक हैं. मंगिता देवी की गिनती लालू परिवार के करीबी नेताओं में होती है. मंगिता देवी साल 2006 में सक्रिय रूप से राजनीति में एंट्री ली. 2006 से 2011 तक ये सीतामढ़ी जिला परिषद की सदस्य भी रही हैं. समाज सेवा में मंगिता देवी लंबे अरसे से सक्रिय रही हैं. देखने वाली बात यह है कि हर साल चुनावी चेहरा बदल देने वाली जनता इस बार भी उन पर भरोसा जताती है या नहीं.
 

किस-किसके के बीच है मुकाबला?

रुन्नीसैदपुर विधानसभा पर मुख्य मुकाबला महागठबंधन बनाम एनडीए ही है. इस सीट से मौजूदा विधायक मंगिता देवी ही चुनाव लड़ रही हैं. उनके सामने एनडीए की ओर से जनता दल(यूनाइटेड) के प्रत्याशी पंकज कुमार मिश्र सामने हैं. पंकज कुमार 2015 के चुनाव में मंगिता देवी से हार चुके हैं, ऐसे में इस बार पार्टी की पूरी कोशिश यही रहेगी कि किस तरह से सत्ता में दोबारा वापसी की जाए.

अन्य पार्टियों में रुन्नीसैदपुर विधानसभा सीच से पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी(लोकतांत्रिक) की ओर से उम्मीदवार लाल बाबू राय हैं. लोक जन शक्ति पार्टी की गुड्डी देवी, पुष्पम प्रिया चौधरी की दी प्लूरल्स पार्टी से विनय कुमार, जनवादी पार्टी(सोशलिस्ट) से ब्रजेश महतो चुनाव लड़ रहे हैं.

कब है चुनाव?

रुन्नीसैदपुर में दूसरे चरण में वोटिंग होगी. दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों पर चुनाव होने हैं. इस सीट पर 3 नवंबर को वोटिंग होगी. चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को आएंगे.

यह भी पढ़ें-
बाजपट्टी विधानसभा: क्या तीसरी बार जेयूडी लगाएगी जीत की हैट्रिक?
सुरसंड में क्या RJD की होगी सत्ता में वापसी?

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें