scorecardresearch
 

Exclusive: ममता बनर्जी बोलीं- नेताजी के कार्यक्रम में गरिमा भंग हुई, फिर भी वहां से उठकर नहीं गई

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हां, वे (बीजेपी) अपनी पार्टी के मंच पर नारे लगा सकते हैं, लेकिन वो नेताजी का कार्यक्रम था. मैं पूरे कार्यक्रम में बैठी रही. मैं छोड़कर नहीं गई. मैंने पीएम से यह भी नहीं पूछा कि उन्होंने ऐसा क्यों किया.

सीएम ममता बनर्जी (फोटो- PTI) सीएम ममता बनर्जी (फोटो- PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ''पराक्रम दिवस' पर राज्य सरकार से कोई बात नहीं की गई'
  • ममता बनर्जी बोलीं- सरकार के कार्यक्रम की गरिमा होती है
  • 'मैं भी एक हिंदू हूं और हिंदुत्व पर बहस के लिए तैयार'

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर केंद्र सरकार ने कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में एक कार्यक्रम आयोजित किया था. इस कार्यक्रम में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का गुस्सा भी देखने को मिला था. उन्होंने नारेबाजी के कारण भाषण देने से इनकार कर दिया था. इसपर खूब विवाद भी हुआ, जिसके बाद अब ममता बनर्जी ने प्रतिक्रिया दी है. इंडिया टुडे टीवी के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई को दिए इंटरव्यू में ममता बनर्जी ने कहा कि नेताजी के कार्यक्रम में गरिमा भंग हुई, फिर भी मैं वहां से उठकर नहीं गई. 

सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि 'पराक्रम दिवस' को लेकर राज्य सरकार से कोई बात नहीं की गई. उन्होंने हमसे पूछा तक नही. ममता बनर्जी ने कहा कि सरकार के कार्यक्रम की गरिमा होती है, लेकिन वहां राजनीतिक नारे लगाए गए. जब भी मैं ऐसे कार्यक्रमों में जाती हूं तो बीजेपी अपने लोगों को ऐसा करने के लिए भेजती है. मुख्यमंत्री ने कहा कि हां, वे (बीजेपी) अपनी पार्टी के मंच पर नारे लगा सकते हैं, लेकिन वो नेताजी का कार्यक्रम था. मैं पूरे कार्यक्रम में बैठी रही. मैं छोड़कर नहीं गई. मैंने पीएम से यह भी नहीं पूछा कि उन्होंने ऐसा क्यों किया. ममता बनर्जी ने कहा कि राम किसकी पूजा करते थे, दुर्गा! और मैं भी दुर्गा की पूजा करती हूं. मैं भी एक हिंदू हूं. मैं हिंदुत्व पर बहस के लिए तैयार हूं. 

देखें- आजतक LIVE TV  

क्या है पूरा मामला

बता दें कि 23 जनवरी को नेताजी की 125वीं जयंती पर विक्टोरिया मेमोरियल में कार्यक्रम का आयोजन हुआ था. यहां पर ममता बनर्जी को भी भाषण देना था. जैसे ही ममता बनर्जी भाषण देने के लिए मंच पर पहुंचीं, जयश्री राम के नारे लगने लगे. इससे नाराज ममता बनर्जी ने मंच पर बोलने से इनकार कर दिया. एक तरफ जयश्री राम तो दूसरी तरफ भारत माता की जय के नारे लग रहे थे. इस पर ममता बनर्जी नाराज हो गईं. उन्होंने कहा कि अगर आपने किसी को बुलाया है, आमंत्रित किया है तो इस तरह किसी की बेइज्जती या अपमान नहीं किया जा सकता है. 

सीएम ममता बनर्जी और राजदीप सरदेसाई

उस दौरान ममता बनर्जी ने कहा कि मुझे लगता है कि गर्वमेंट के प्रोग्राम की कोई गरिमा होनी चाहिए. यह सरकारी कार्यक्रम है, यह किसी पार्टी का प्रोग्राम नहीं है, यह ऑल पार्टी और पब्लिक का प्रोग्राम है. मैं तो प्रधानमंत्री जी की आभारी हूं, कल्चरल मिनिस्ट्री की आभारी हूं कि आप लोगों ने कोलकाता में प्रोग्राम बनाया. लेकिन किसी को आमंत्रित करके, किसी को निमंत्रित करके उसका अपमान करना आपको शोभा नहीं देता. मैं इस पर विरोध जताते हुए यहां नहीं बोलूंगी. जय हिंद, जय बांग्ला.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें