scorecardresearch
 

बड़ा फैसला: बंधी आस, हजारों प्राइमरी टीचरों को मिलेगी रुकी ज्वाइनिंग

ज्वाइनिंग से कुछ घंटे पहले ही कैट (सेंट्रल एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल) से मिले एक आदेश के बाद निगम प्राथमिक शिक्षक नियुक्ति परीक्षा परिणाम को रद्द कर दिया गया था.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

  • अभी भी स्थायी नहीं मानी जाएगी नियुक्ति, कोर्ट के फैसले पर निर्भर होगा भविष्य
  • DSSSB की प्रक्रिया पर सवाल उठने के बाद रोका गया था ज्वाइनिंग का फैसला
  • हजारों शिक्षकों को मिली राहत, कल होगी ज्वा‍इनिंग, जानें क्या है नोट‍िस

बीते सोमवार यानी 14 अक्टूबर को हजारों शिक्षकों के सिर पर गाज गिर गई थी. उनकी ज्वाइनिंग से कुछ घंटे पहले ही कैट (सेंट्रल एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल) से मिले एक आदेश के बाद निगम प्राथमिक शिक्षक नियुक्ति परीक्षा परिणाम को रद्द कर दिया गया था.

ये नियुक्ति इसलिए रद्द की गई थी क्योंकि कुछ लोगों ने DSSSB की परीक्षा प्रणाली पर सवाल उठाए थे.

इस पूरे मामले में परीक्षा में शामिल होने वालों ने कैट में फरवरी 2019 में अपील की थी. कैट में शिकायतकर्ता एक शिक्षक ने बताया कि ये एग्जाम चार शिफ्ट में लिया गया था. इसमें रीपिटेड क्वेश्चन नॉर्मलाइजेशन में धांधली हुई थी. इसमें जिसके 80-85 नंबर वालों के एक 120 नंबर कर दिए थे. इसमें डीएसएसएसबी ने कहा था कि हमने फार्मूला लगाया था, लेकिन जज ने इसे लॉजिकल फार्मूला बताते हुए फैसला शिकायतकर्ता के पक्ष में किया था. इस फैसले के बाद ही CAT ने नियुक्ति से पहले हजारों परिवारों के सपने अचानक से धूमिल कर दिए थे. मंगलवार 15 अक्टूबर को जो टीचर जाकर अपनी नौकरी ज्वाइन करने वाले थे, सोमवार की शाम को अचानक आदेश मिलने से ज्वाइनिंग मिल गई.

21 अक्टूबर को दक्षिणी नगर निगम ने इन सभी शिक्षकों की ज्वाइनिंग दे दी है. लेकिन ये एक तरह से अस्थायी ज्वाइनिंग है.बता दें कि इन 3788 शिक्षकों के लिए निगमों की ओर से नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिए गए थे. इन सभी को जल्द से जल्द से ज्वाइन करना था.

इसलिए रद्द करना पड़ा रिजल्ट

इस शिक्षक नियुक्ति परीक्षा के अभ्यर्थी ने ट्रिब्यूनल को इस परिणाम को लेकर चुनौती दी थी. ये परीक्षा DSSSB (Delhi Subordinate Services Selection Board) की ओर से ली गई थी. अभ्यर्थी ने दावा किया था कि अलग अलग बैच में परीक्षा आयोजित होने के बाद भी कई प्रश्न हर बैच में एक जैसे आए थे. पूरी तरह ऑनलाइन हुई इस परीक्षा में गड़बड़ी के आरोप के बाद इसमें लंबी सुनवाई चली थी.

ये है परीक्षा का पैटर्न

दिल्ली के तीनों निगमों में शिक्षकों की नियुक्ति के लिए दक्षिणी दिल्ली नगर निगम मुख्य नोडल एजेंसी है. डीएसएसएसबी के रिजल्ट आने के बाद तीनों नगर निगम में शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को पूरा कर लिया गया था. सभी चयनित अभ्यर्थ‍ियों के दस्तावेजों के सत्यापन के साथ उनका मेडिकल और पुलिस सत्यापन भी निगम ने कराया था. बोर्ड ने पद संख्या 16/17 और 1/18 के लिए साल 2018 में सितंबर-अक्टूबर महीने में 4 चरणों में परीक्षा आयोजित की थी. इसमें जनरल कैटेगरी के लिए 1286, OBC के लिए 1057, अनुसूचित जाति के लिए 616, अनुसूचित जनजाति के लिए 659 और दिव्यांगों के लिए 170 प्रत्याशियों को चुना था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें