scorecardresearch
 

चीन में चलेगी संस्‍कृत की क्‍लास

चीन के हांगझू बौद्ध संस्थान में एक समर कैंप में प्राचीन भारतीय भाषा संस्कृत सीखने के लिए 60 चीनी बुद्धिजीवियों ने पंजीकरण कराया है.

chinese people chinese people

चीन के हांगझू बौद्ध संस्थान में एक समर कैंप में प्राचीन भारतीय भाषा संस्कृत सीखने के लिए 60 चीनी बुद्धिजीवियों ने पंजीकरण कराया है.

प्रशिक्षुओं का चयन 300 उम्मीदवारों के बीच किया गया और ये योग प्रशिक्षक, मैकेनिकल डिजाइनर्स, परफॉमर्स, होटल प्रबंधन तथा पर्यावरण संरक्षण जैसे पेशों से जुड़े लोग हैं.

यह कैंप छह दिनों का होगा, जिसमें संस्कृत पढ़ना-लिखना सिखाने पर जोर होगा. जर्मनी के मेंज विश्वविद्यालय से इंडोलॉजी (भारतीय उपमहाद्वीप में इतिहास, भाषा, संस्कृति व साहित्य का अध्ययन) में डॉक्टर की उपाधि प्राप्त कर प्रशिक्षक ली वेई ने कहा कि संस्कृत भाषा का व्याकरण बहुत कठिन है.

अधिकांश ट्रेनर को छह दिनों की ट्रेनिंग के लिए ओवरटाइम करना पड़ेगा. कैंप शामिल होने के लिए कुछ लोग अपनी सालाना छुट्टियों का इस्तेमाल करेंगे, तो कुछ नाइट शिफ्ट करेंगे, ताकि वे अध्ययन के लिए दिन में समय निकाल सकें.

बीजिंग के रेनमिन विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में स्नातक की उपाधि ले चुके और अब योग प्रशिक्षक के रूप में कार्यरत प्रशिक्षु हे मिन (39) ने कहा कि यह मौका बेशकीमती है.

प्रतिदिन दो से तीन घंटे योग का प्रशिक्षण करने वाले योग प्रशिक्षक ने कहा, 'संस्कृत दुनिया भर में योग प्रशिक्षकों द्वारा इस्तेमाल में लाई जाने वाली आम भाषा है. योग की पुस्तकें हालांकि अंग्रेजी में भी उपलब्ध हैं, लेकिन योग मुद्राओं के नाम तथा इस दौरान किए जाने वाले मंत्रोच्चार भी संस्कृत भाषा में हैं.'

इनपुट: IANS

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें