scorecardresearch
 

प्रोफेसर फिरोज के पिता बोले- अच्छा होता उसे मुर्गे बेचने की दुकान खुलवा देता

प्रो फिरोज खान  कुछ हफ्ते पहले तब चर्चा में आए जब उनकी नियुक्ति के बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय में विरोध शुरू हो गया. ये विरोध एक गैर हिंदू के संस्कृ‍त शिक्षक बनने पर था. सोमवार 18 नवंबर को इस विरोध में हवन और बुद्धिशुद्धि यज्ञ भी किया गया.

रमजान खान (प्रो फिरोज के पिता) Image Credit: Sharat Kumar रमजान खान (प्रो फिरोज के पिता) Image Credit: Sharat Kumar

संस्कृत में शास्त्री यानी ग्रेजुएट, आचार्य (पोस्ट ग्रेजुएट), शिक्षा शास्त्री (बीएड) की डिग्री जैसी काबिलियत लेकर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) में संस्कृत टीचर बने प्रो फिरोज खान चर्चा में हैं. वो कुछ हफ्ते पहले तब चर्चा में आए जब उनकी नियुक्ति के बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय में विरोध शुरू हो गया. ये विरोध एक गैर हिंदू के संस्कृ‍त शिक्षक बनने पर था. सोमवार 18 नवंबर को इस विरोध में हवन और बुद्धिशुद्धि यज्ञ भी किया गया.

बता दें कि फिरोज खान जयपुर के पास बागरू के रहने वाले हैं. इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए फिरोज खान ने कहा कि मैं दूसरी कक्षा से संस्कृत पढ़ रहा हूं, लेकिन कभी किसी ने कोई आपत्ति नहीं की. न पड़ोस वालों ने, न किसी मौलवी ने. मैं जितना संस्कृत जानता हूं, उतना तो कुरान का भी ज्ञान मुझे नहीं है. मेरे इलाके के कई हिन्दुओं ने मेरे संस्कृत ज्ञान पर मेरी हौसलाफजाई की है.

BHU में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े छात्र आंदोलन कर रहे हैं. मीडिया से बातचीत में छात्रों ने कहा कि कोई भी व्यक्ति जो उनकी भाषा और धर्म के आधार से नहीं जुड़ा है, वो हमें कैसे पढ़ा सकता है.

फिरोज खान ने इस प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जो लोग कह रहे हैं कि मैं मुस्लिम होते हुए उन्हें धर्म की शिक्षा कैसे दे सकता हूं. इस पर मेरा कहना है कि लिट्रेचर में संस्कृत साहित्य के तकनीकी पहलुओं और कई प्रसिद्ध नाटक जैसे अभिज्ञान शाकुंतलम, उत्तर रामचरितम, रघुवंश महाकाव्य और हर्शचरितम जैसे महाकाव्यों की पढ़ाई करनी होती है. इनका धर्म से कोई लेनादेना नहीं है.

फिरोज ने कहा कि चलिए एक बार मैं मान सकता हूं कि अगर वेद, धर्म शास्त्र या ज्योतिष की शिक्षा देनी हो तो ज्यादा अच्छा होता कि मैं हिदू होता. लेकिन मेरी नियुक्ति संस्कृत साहित्य पढ़ाने के लिए हुई है, जिसका धर्म से कोई लेनादेना नहीं है.

मुझे तो बस वही पढ़ाना है, जो पहले से ही लिखा जा चुका है. वहीं दूसरी ओर फिरोज खान के पिता रमजान खान भी संस्कृत में शास्त्री डिग्री ले चुके है.

उन्होंने कहा कि मैंने ज़िंदगी भर संस्कृत से मुहब्बत की और बेटे को भी दूसरी कक्षा से संस्कृत की तालीम दिलवाई. लेकिन अब दिल कचोट रहा है कि इस मुकाम पर पहुंचकर भी कुछ लोगों के विरोध के चलते उनके बेटे का करियर दांव पर लगा है. मेरे बेटे की नियुक्ति की वजह से BHU में जो विरोध हो रहा है, उसे देखकर सोचता हूं बेटे को संस्कृत की पढ़ाई करवाने के बजाय अगर मुर्गे की दुकान खुलवा देता तो ज्यादा सही रहता. तब लोगों को इतनी आपत्ति नहीं होती.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें