scorecardresearch
 

इस कॉलेज में 2 हफ्ते तक क्वारनटीन रहेंगे छात्र, फिर देंगे परीक्षा

कोरोना वायरस स्थिति को देखते हुए इस कॉलेज ने निकाला अनोखा उपाय, पहले दो हफ्तों तक कॉलेज में ही खुद को क्वारनटीन करेंगे छात्र, फिर देंगे परीक्षा.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

देश में तेजी से बढ़ते हुए कोरोना वायरस के केस को देखते हुए एक प्राइवेट डेंटल कॉलेज ने छात्रों की परीक्षा लेने का अलग तरीका निकाला है.

महाराष्ट्र के पुणे शहर के पास स्थित इस प्राइवेट डेंटल कॉलेज ने अपने 150 से अधिक छात्रों को कहा है वह अगले महीने तभी परीक्षा में बैठ सकते हैं जब वह दो हफ्तों तक कॉलेज में ही क्वारनटीन रहें.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

पिंपरी शहर के DY पाटिल डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट डेंटल कोर्स के छात्रों ने कहा कि उन्हें अपने संबंधित शहरों से निकलने से पहले अपना कोरोना टेस्ट कराना होगा. जिसके बाद परीक्षा से कम से कम दो हफ्ते पहले कॉलेज पहुंचना होगा और खुद को दो हफ्तों तक क्वारनटीन करना होगा.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

वहीं छात्रों और उनके माता-पिता ने मांग की है कि कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए परीक्षाएं स्थगित कर दी जाएं. हालांकि, कॉलेज अधिकारियों ने कहा कि परीक्षा के दौरान सभी सुरक्षा उपायों, स्क्रीनिंग, सोशल डिटेंसिंग, स्वच्छता का पालन किया जाएगा.

यह परीक्षा साल के छठे महीने के आस पास आयोजित की जानी थी, लेकिन कोरोना वायरस की स्थिति के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था. एक छात्र ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया, “मैनेजमेंट ने छात्रों को सितंबर के पहले सप्ताह तक कॉलेज आने और तीसरे में परीक्षा के लिए उपस्थित होने से पहले दो सप्ताह के लिए अलग रहने को कहा है.'

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

उन्होंने कहा, "पुणे और पिंपरी चिंचवाड़ में हर कोई स्थिति जानता है. इसके अलावा, कॉलेज परिसर में एक कोरोना वायरस आइसोलेशन की सुविधा है. प्रशासन का कहना है, अब कॉलेज को परीक्षा स्थगित करनी चाहिए क्योंकि पिंपरी चिंचवाड़ में कोरोना वायरस की स्थिति अच्छी नहीं है.

वहीं अधिकांश छात्र राज्य से बाहर के हैं, इसलिए उन्हें या तो विमान या बस से आना होगा और इस प्रक्रिया में संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ने की आशंका है, इसलिए ये कदम उठाया गया है.

यूनिवर्सिटी के वाइंस चांसलर डॉ एन जे पवार ने कहा, अभिभावकों और छात्रों को आश्वस्त किया कि कॉलेज ने BDS और MDS कोर्सेज के 150 से अधिक छात्रों की परीक्षा आयोजित करने के लिए सभी सावधानियां बरती हैं.

उन्होंने कहा, "मैं छात्रों और अभिभावकों को आश्वस्त करता हूं कि कॉलेज ने यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए हैं कि परीक्षा के आयोजन के दौरान सभी सुरक्षा उपायों, स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग और स्वच्छता का पालन किया जाएगा. "

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें