scorecardresearch
 

दूसरा विश्व‍युद्ध और डेंगू...क्या है डेंगू, रोचक है इससे जुड़ा इतिहास

बारिश का मौसम पूरे वातावरण को हरियाली की चादर से ढककर खूबसूरत बना देता है. लेकिन, इस मौसम का डेंगू जैसी मच्छर जनित बीमारियों से भी बड़ा खतरा रहता है. आप इन बीमारियों को चुटकी में हरा सकते हैं, अगर आपको इसके बारे में सारी जानकारी हो. यहां पढ़ें डेंगू के इतिहास के अलावा इससे जुड़ी सारी डिटेल. जैसे कि क्या होता है डेंगू, कैसे फैलता है, कब दिखते हैं लक्षण आदि आदि...

मादा एडीज, प्रतीकात्मक फोटो मादा एडीज, प्रतीकात्मक फोटो

बारिश का मौसम पूरे वातावरण को हरियाली की चादर से ढककर खूबसूरत बना देता है. लेकिन, इस मौसम का डेंगू जैसी मच्छर जनित बीमारियों से भी बड़ा खतरा रहता है. आप इन बीमारियों को चुटकी में हरा सकते हैं, अगर आपको इनके बारे में यहां दी गई ये सभी जानकारियां हों, यहां पढ़ें डेंगू के इतिहास के अलावा इससे जुड़ी सारी डिटेल. जैसे कि क्या होता है डेंगू, कैसे फैलता है, कब दिखते हैं लक्षण आदि आदि...

जानें डेंगू का इतिहास

डेंगू वायरस पर तैयार अमेरिकन सोसायटी फॉर माइक्रो बायोलॉजी की एक रिपोर्ट के अनुसार दूसरे विश्व युद्ध के बाद डेंगू सबसे तेजी से फैलने लगा था. लोगों ने माना कि युद्ध ने पर्यावरण पर बहुत असर डाला है. सभी तरह तमाम तरह के डेंगू फैलने लगे थे. तभी पहली बार किसी को रक्तश्रावी डेंगू हुआ था. सबसे पहले 1953 में फिलीपींस में बेहद भीषण डेंगू रिपोर्ट किया गया था. 1970 के आते-आते रक्तस्रावी डेंगू बुखार बच्चों में मौत की मुख्य वजह बन गया. ये प्रशांत महासागर के देशों के अलावा अमेरिका में भी होने लगा था. डेंगू शॉक सिन्ड्रोम का मरीज भी मिडिल और साउथ अमेरिका में 1981 में रिपोर्ट हुआ था. डेंगू एक समय ऐसा आया कि ये महामारी का रूप ले चुका था.

जानें, कैसे फैलता है डेंगू

चीते जैसी धारियों वाले मादा एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से शरीर में डेंगू फैलता है. ये मच्छर सिर्फ डेंगू वायरस का करियर यानी वाहक होता है. जब कोई मादा एडीज डेंगू वायरस से पीडि़त मरीज को काटता है तो वो मरीज के खून के साथ वायरस भी चूसता है. अब ये वायरस वो अगले व्यक्ति को काटते ही उसके खून में पहुंच जाता है. मच्छर काटने के 3 दिन से लेकर आठ- दस दिनों के बाद मरीज में डेंगू के लक्षण दिखने लगते हैं.

ये महीने होते हैं खतरनाक

डेंगू वायरस जुलाई से अक्टूबर में सबसे ज्यादा फैलता है. इसकी वजह है कि इस मौसम में मच्छरों के पनपने के लिए पूरा माहौल होता है. ये साफ पानी में आसानी से पनप जाते हैं. सबसे खास बात कि ये न बहुत ऊंचा उड़ते हैं और न रात में किसी को काटते हैं.

इतने तरह का होता है डेंगू बुखार

1: क्लासिकल या साधारण डेंगू: ये बुखार आसानी से ठीक होता है. ऐसे मरीज बुखार के इलाज या अपनेआप भी ठीक हो जाते हैं. इसमें मरीज को ठंड लगने के बाद अचानक तेज बुखार आता है. सिर, मांसपेशियों, आंखों की पलकों और जोड़ों में दर्द होता है. इसमें चेहरे और छाती पर लाल गुलाबी रंग के रैशेज भी हो सकते हैं. ऐसे में तत्काल डॉक्टर के पास जाना जरूरी हो जाता है.

2. डेंगू हैमरेजिक बुखार (DHF): ये बुखार बेहद खतरनाक होता है. इस बुखार में मरीज के खून में मौजूद प्लेटलेट्स तेजी से गिरती हैं. इससे पीड़ित मरीजों को तत्काल इलाज की जरूरत होती है. इस बुखार से पीडि़त रोगी में क्लासिकल डेंगू के लक्षणों के अलावा नाक और मसूढ़ों से खून आ सकता है. इसके अलावा स्किन पर गहरे नीले-काले रंग के छोटे या बड़े चकत्ते भी देखे जा सकते हैं.

3. डेंगू शॉक सिंड्रोम (DSS):  ये बुखार भी खतरनाक की कैटेगरी में आता है. इस बुखार से पीड़ित मरीजों को डॉक्टर भर्ती करने की सलाह देते हैं. जांच से इनका पता चल जाता है. इसमें डेंगू बुखार के सभी लक्षणों के साथ शॉक जैसे सिम्पटम होते हैं. जैसे मरीज बहुत ज्यादा बेचैन और ब्लडप्रेशर लो हो जाता है.

कैसे घटते हैं ब्लड में मौजूद प्लेटलेट्स

एक स्वस्थ व्यक्ति के खून में डेढ़ से दो लाख तक प्लेटलेट्स होते हैं. ये प्लेटलेट्स हमारी रोक प्रतिरोधक क्षमता से सीधे जुड़े होते हैं. जैसे ही एक लाख से कम होने लगते हैं, मनुष्य डेंगू से पीड़ित हो जाता है. यदि प्लेटलेट एक लाख से कम होती हैं तो मरीज की हालत बिगड़ने लगती है, उसे तत्काल अस्पताल में भर्ती करना चाहिए. यदि प्लेटलेट्स 20 हजार तक होती हैं तो डॉक्टर तत्काल नशों के जरिये प्लेटलेट्स चढ़ाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें