scorecardresearch
 

IIIT-D दीक्षांत समारोह: लम्हा गोयल को चांसलर गोल्ड मेडल, ये भी रहे विजेता

इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी दिल्ली (IIIT-D ) ने आठवां दीक्षांत समारोह आयोजित किया. संस्थान ने इस साल 14 पीएचडी, 155 बी-टेक और 115 एम-टेक डिग्री और एक एम.टेक ड्युअल डिग्री प्रदान की.

दीक्षांत समारोह के दौरान मेडल देते मुख्य अतिथि दीक्षांत समारोह के दौरान मेडल देते मुख्य अतिथि

आईआईआईटी दिल्ली ने गुरुवार को परिसर में अपने 8वें दीक्षांत समारोह का आयोजन किया. समारोह में IIIT-D के तमाम पाठ्यक्रमों और कार्यक्रमों के 284 छात्रों के स्नातक होने का जश्न मनाया. नैसकॉम के प्रमुख देबजानी घोष कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल रहे. IIIT- दिल्ली के निदेशक प्रो. रंजन बोस ने स्नातक करने वाले छात्रों को संबोधित किया. संस्थान के अध्यक्ष किरण कार्णिक और चांसलर लेफ्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल ने भी अपनी उपस्थिति के साथ इस अवसर को प्राप्त किया.

इस अवसर पर मुख्य अतिथि घोष ने कहा कि मैं आपको अपने अतीत से कोई सलाह नहीं देने जा रही हूं क्योंकि ये आपके भविष्य के लिए पहले से ही पुराना हो चुका है, मैं आपसे केवल दो चीजें याद रखने के लिए कहूंगी. सबसे पहले, एक बच्चे को बड़ा करने के लिए एक पूरा गांव मोहल्ला लगता है. ये हमारे माता-पिता, अभिभावक, परिवार, दोस्तों और कई अन्य लोगों की कड़ी मेहनत और प्रयासों का परिणाम है कि आप और मैं आज यहां हैं. दूसरी बात, मशीनें मानवीय श्रम का स्थान लेने जा रही हैं लेकिन मशीनों को मानव सहानुभूति का स्थान लेने में समय लगेगा. इसलिए यदि आप एआई, उद्योग 4.0 और स्वचालन की इस दुनिया में अपनी जगह बनाना चाहते हैं, तो आपको अंदर की ओर देखना होगा और देखना होगा कि आप कैसे बेहतर मानव बन सकते हैं. इसी से आपको अलग पहचान मिलेगी.

कुलाधिपति अनिल बैजल ने स्नातक करने वाले छात्रों को सलाह देते हुए कहा कि इस संस्थान के विकास के लिए सभी ने जो मेहनत की है, मैं उसकी सराहना करता हूं. भविष्य में आप कई ऐसी चुनौतियों और अवसरों का भी सामना करेंगे जिनकी आपने छात्रों के रूप में कभी भी कल्पना नहीं की होगी. अध्यक्ष किरण कर्णिक ने स्नातकों के साथ ज्ञान और जीवन के सबक साझा किए और उन्हें शुभकामनाएं दीं. उन्होंने क‍हा कि ये आपके जीवन का एक मील का पत्थर है. मुझे यही कहना है कि प्रासंगिक बने रहने के लिए, अपडेट रहे और दस साल तक काम करें, नई चीजें सीखते रहें, क्योंकि सीखना कभी समाप्त नहीं होता है.

आईआईआईडी से रिकॉर्ड 96% से 98% प्लेसमेंट

संस्थान ने इस वर्ष 14 पीएचडी, 155 बी.टेक और 115 एम.टेक. डिग्री प्रदान की, जिनमें एक एम.टेक ड्युअल डिग्री है. संस्थान का प्लेसमेंट रिकॉर्ड प्रभावशाली बना हुआ है. अधिकांश कार्यक्रमों में 96% से 98% प्लेसमेंट रिकॉर्ड है. यहां के छात्र जॉर्जिया टेक, कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय, हार्वर्ड विश्वविद्यालय, मैरीलैंड विश्वविद्यालय, वर्जीनिया विश्वविद्यालय,केंसास विश्वविद्यालय, ऑस्टिन में टेक्सास विश्वविद्यालय, आदि जैसे शीर्ष विदेशी विश्वविद्यालयों में जा रहे हैं.

लम्हा, पुलकित और इनके नाम रहे ये मेडल

दीक्षांत समारोह के दौरान स्टूडेंट लम्हा गोयल को चांसलर का गोल्ड मेडल मिला. वहीं पुलकित गोयल को बीटेक में सर्वश्रेष्ठ अकादमिक प्रदर्शन के लिए पदक दिया गया. वहीं  गुनकीरत कौर (ऑल-राउंड परफॉर्मेंस मेडल, सीएसई), मानसी मलिक (ऑल-राउंड परफॉर्मेंस मेडल, ईसीई), शुभंकर आर बुट्टा और परीक्षितकुमार प्रुथी (संयुक्त रूप से बेस्ट बी.टेक.प्रोजेक्ट अवार्ड; इंजीनियरिंग ट्रैक), सारथिका धवन (बेस्ट बी.टेक.प्रोजेक्ट अवार्ड -सर्च ट्रैक) पदक विजेता रहे. इसके अलावा एकांश शरीन (सर्वश्रेष्ठ बी.टेक.प्रोजेक्ट अवार्ड- रिसर्च ट्रैक) सना अख़्तर (सर्वश्रेष्ठ एम.टेक. थीसिस अवार्ड, CB), फातिमा मुमताज़ (सर्वश्रेष्ठ एम.टेक. थीसिस अवार्ड, ECE), वैभव गर्ग (बेस्ट एम. टेक. थिसिस अवार्ड, सीएसई, शाह हितार्थ दीपेश भाई को उत्कृष्ट शैक्षणिक प्रदर्शन के लिए स्वर्ण पदक दिया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें