scorecardresearch
 

IIT रुड़की ने बनाया मोबाइल ट्रैकिंग ऐप, क्वारनटीन लोगों पर रखेगा नजर

इसे मोबाइल पर इंस्टाल करके आप आसानी से आसपास के लोगों की हिस्ट्री पर नजर रख सकते हैं. अगर कोई क्वारनटीन नियमों का उल्लंघन कर रहा है तो उसे भी इससे ट्रैक किया जा सकेगा. जानें- कैसे?

भारत में भी कोरोना का कहर भारत में भी कोरोना का कहर

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) रुड़की के एक प्रोफेसर ने एक ऐसा मोबाइल आधारित ट्रैकिंग एप्लीकेशन विकसित किया है, जिसके जरिये लोग ये पता लगा सकते हैं कि उनके इलाके में क्वारनटीन किए गए लोगों की संख्या कितनी है. इससे लोग संक्रमित व्यक्त‍ि या क्वारनटीन किए गए किसी इलाके में आगे जाने पर सतर्क रहें.

देश में कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन किया गया है. कोरोना संदिग्धों की निगरानी के लिए सरकारी प्रयासों को और सफल बनाने के लिए IIT Roorkee ने अत्याधुनिक फीचरों वाला ये ऐप तैयार किया है.

आईआईटी रुड़की के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर कमल जैन ने बताया कि यह ऐप क्वारनटीन में भेजे गए लोगों को ट्रैक करने के अलावा आइसोलेशन वाले मरीजों पर भी निगरानी रख सकती है. अगर आइसोलेशन में रह रहा मरीज उसका उल्लंघन करता है तो ऐप तत्काल सतर्क कर सकता है. ये ऐप बिना जीपीएस डाटा के भी मोबाइल टॉवर के जरिए अपने आप लोकेशन ले लगा. यदि किसी क्षेत्र में इंटरनेट नहीं चल रहा है तो भी एसएमएस द्वारा इससे लोकेशन मिल जाएगी.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आईआईटी रुड़की का दावा है कि यह ऐप गूगल मैप पर क्वारनटाइन व्यक्तियों / स्थानों की तस्वीरें साझा करने की भी अनुमति देता है. इसके अलावा, इसे चला रहा यूजर सभी रिपोर्टों को एक मानचित्र पर देख सकता है. ये एक बार एक व्यक्त‍ि की जानकारी लेने के बाद परिभाषित अवधि के लिए अपने आसपास के सभी लोगों को कोविड 19 से सतर्क रहने के लिए उनकी जानकारी प्रदान करता है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

निगरानी प्रणाली एक प्लग एंड प्ले डिवाइस है जो पांच मीटर के दायरे की सटीकता के साथ 2, 10 या 20 सेकंड पर सूचनाओं के माध्यम से ट्रैकिंग की अनुमति देता है. ऐप के अन्य फीचर्स में मल्टी-कैमरा सपोर्ट, सर्विलांस मैग्नेटिक डिवाइस, हाल्ट टाइम और ऑटो कैमरा क्लिक प्रीसेट टाइम आदि शामिल हैं.

बता दें कि इसके अलावा आईआईटी रुड़की के शोधकर्ताओं ने कम कीमत वाला वेंटिलेटर तैयार किया है. क्लोज-लूप वाले इस वेंटिलेटर को कम्प्रेस्ड एयर की जरूरत नहीं होगी. इसकी वजह से जब आईसीयू में वार्ड बदला जाता है तो यह काफी आसान होता है. यानी ये वेंटिलेटर पोर्टेबल होगा. आईआईटी रुड़की ने इस वेंटिलेटर का नाम प्राणवायु रखा है. यह कम कीमत वाला वेंटिलेटर एम्स के साथ मिलकर बनाया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें