scorecardresearch
 

AIIMS में आग लगने के कारण आगे बढ़ी MBBS काउंसलिंग की तारीख, पढ़ें डिटेल्स

देश की राजधानी दिल्ली के जाने-माने अस्पताल एम्स के टीचिंग ब्लॉक में आग लगने के कारण प्रशासन ने AIIMS MBBS की काउंसलिंग की तारीख को आगे बढ़ा दिया है.  जानें- क्या है नई तारीख...

एम्स के टीचिंग ब्लॉक में लगी थी भीषण आग (फोटो- ANI) एम्स के टीचिंग ब्लॉक में लगी थी भीषण आग (फोटो- ANI)

देश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल दिल्ली AIIMS के परिसर में शनिवार की शाम (17 अगस्त 2019) को आग लग गई थी. जिसके कारण प्रशासन ने MBBS काउंसलिंग की तारीख को आगे बढ़ा दिया है. पहले काउंसलिंग की तारीख 20 और 21 अगस्त तय की गई थी, अब तारीख को आगे बढ़ाकर 26 और  27 अगस्त कर दिया गया है.

इसके लिए ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन को 21 अगस्‍त 2019, शाम 5 बजे तक के लिए री-ओपन कर दिया गया है. एम्स ने आधाकारिक नोटिफिकेशन जारी करते हुए  कहा कि "काउंसलिंग (AIIMS-MBBS-2019) के भाग लेने वाले उम्मीदवारों और अभिभावकों की बड़ी संख्या को देखते हुए प्रशासन की ओर से यह निर्णय लिया गया है कि पर्याप्त व्यवस्था और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए काउंसलिंग की तारीख को "20 और 21 अगस्त से 26 अगस्त और 27, 2019 तक पुनर्निर्धारित किया गया है."

वहीं प्रशासन का कहना है कि यदि पहले दिन सीटें भर जाती हैं, तो दूसरे दिन कोई काउंसलिंग नहीं होगी. काउंसलिंग में जिस उम्मीदवार को सीट मिलती है तो उन्हें 27 और 28 अगस्त को मेडिकल चेक-अप (यदि आवश्यक हो) तो एम्स में रुकना होगा. मेडिकल चेकअप एम्स, नई दिल्ली में ही होगा. प्रवेश से संबंधित औपचारिकताएं एम्स दिल्ली में पूरी की जाएंगी."

आपको बता दें, एम्स की दूसरी मंजिल पर टीचिंग ब्लॉक में आग लगी थी. जिसके बाद आग तेजी से पांचवीं  मंजिल पर पहुंच गई थी. हालांकि, अस्पताल से किसी के हताहत होने की सूचना नहीं आई है. एम्स प्रशासन के अनुसार, कुछ फैकल्टी कक्षाओं के साथ कुछ अन्य प्रयोगशालाएं आग लगने के कारण नष्ट हो गई है.

फायर डिपार्टमेंट और अस्पताल प्रशासन आग के कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं, हालांकि ऐसी खबरें हैं कि आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी थी. जिसकी अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है.

फायर डिपार्टमेंट के NOC के बिना चल रहा है देश का सबसे बड़ा अस्पताल AIIMS!

फायर डिपार्टमेंट का कहना है कि एम्स के जिस इमारत में आग लगी है, उसके पास NOC (नो ऑब्जेशन सर्टिफिकेट) तक नहीं थी. यह नियमों का पूरी तरह उल्लंघन है.

दिल्ली फायर डिपार्टमेंट के अधिकारियों के मुताबिक एम्स के जिस टीचिंग ब्लॉक में शनिवार को भयानक आग लगी थी, उस ब्लॉक के पास फायर NOC तक नहीं थी. यह बिल्डिंग काफी पुरानी है. नियमों के मुताबिक हर 3 साल में फायर NOC लेना अनिवार्य है और हर साल फायर NOC सर्टिफाइड होती है, जो एम्स ने नहीं कराई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें