scorecardresearch
 

University Exam 2021: रद्द नहीं होंगे LLB डिग्री एग्‍जाम, ऑनलाइन-ओपन बुक हो सकती है परीक्षा

University Exam 2021: विश्वविद्यालय ऑनलाइन/ऑफ़लाइन/मिश्रित/ऑनलाइन ओपन बुक परीक्षा (ओबीई)/असाइनमेंट आधारित मूल्यांकन (एबीई)/शोध पत्र आदि किसी भी तरीके से परीक्षा आयोजित करने के लिए स्‍वतंत्र हैं.

University Exam 2021: University Exam 2021:
स्टोरी हाइलाइट्स
  • काउंसिल का मानना है कि परीक्षाएं रद्द नहीं की जा सकती
  • कॉलेज अपने अनुसार परीक्षा लेने के लिए स्‍वतंत्र हैं

University Exam 2021: बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने स्‍पष्‍ट किया है कि सभी संस्थानों और विश्वविद्यालयों द्वारा LLB डिग्री के लिए टर्म-एंड परीक्षाएं अनिवार्य हैं और इन्‍हें रद्द नहीं किया जा सकता. BCI द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया, "इस बात पर सर्वसम्मति से सहमति बनी कि सभी लॉ स्कूलों/विश्वविद्यालयों द्वारा फाइनल टर्म एंड परीक्षा आयोजित करना अनिवार्य है." हालांकि, परिषद ने परीक्षा के मोड (ऑनलाइन/ऑफलाइन) पर फैसला करने का अधिकार विश्वविद्यालयों पर छोड़ दिया है.

गुरुवार को जारी प्रेस विज्ञप्ति में, BCI ने कहा है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश गोविंद माथुर की अध्यक्षता वाली एक उच्च स्तरीय समिति ने सिफारिश की है कि विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को अपना निर्णय लेने के लिए छोड़ दिया जाना चाहिए कि कैसे मूल्यांकन किया जाएगा. विज्ञप्ति में कहा गया, "विस्तृत चर्चा और विचार-विमर्श के बाद, समिति ने सर्वसम्मति से सहमति व्यक्त की कि प्रत्येक विश्वविद्यालय/ कानूनी शिक्षा केंद्र इंटरमीडिएट और अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए, संसाधनों की उपलब्धता और उस क्षेत्र में COVID19 के प्रभाव के आधार पर, अपनी स्वयं की व्यवस्था के अनुसार परीक्षा आयोजित करेगा."

विश्वविद्यालय ऑनलाइन/ऑफ़लाइन/मिश्रित/ऑनलाइन ओपन बुक परीक्षा (ओबीई)/असाइनमेंट आधारित मूल्यांकन (एबीई)/शोध पत्र आदि किसी भी तरीके से परीक्षा आयोजित करने के लिए स्‍वतंत्र हैं. समिति ने यह भी सिफारिश की है कि विश्वविद्यालयों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि छात्रों को असुविधा से बचने के लिए नियमित और बैकलॉग परीक्षाओं के बीच पर्याप्त समय अंतराल मौजूद रहे.

बार काउंसिल ने अपने प्रस्ताव में कहा है कि देश भर में कई लॉ छात्रों के साथ-साथ लॉ स्कूल प्रशासकों ने परीक्षा को लेकर चिंता जताई थी. देश भर में फैली Covid19 महामारी के बीच, BCI ने कहा है कि जमीनी स्थिति के अनुसार निर्णय लेने होंगे. अधिकांश छात्रों की चिंता पिछले प्रदर्शन या मूल्यांकन के किसी अन्य तरीके के आधार पर उन्हें पदोन्नति देने की है.

 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें