scorecardresearch
 

पापा IPS, अब बेटी ने पास की UPSC परीक्षा, प‍िता जैसा बनना था सपना, मिली 97वीं रैंक

अपने पहले प्रयास में ऐश्वर्या सिंह ने AIR 249 हासिल की और सहायक आयुक्त (अधिकारी प्रशिक्षु) के रूप में शामिल हुई थीं. वो दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित लेडी श्रीराम कॉलेज की पूर्व छात्रा हैं.

ऐश्वर्या स‍िंंह, यूपीएससी 97वीं रैंक  ऐश्वर्या स‍िंंह, यूपीएससी 97वीं रैंक

वर्तमान में भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी के तौर पर प्रश‍िक्षण ले रहीं ऐश्वर्या सिंह ने यूपीएससी में ऑल इंडिया 97वीं रैंक हासिल की है. ऐश्वर्या राय ने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित 2021 सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण की है. 
 
इससे पहले ऐश्वर्या सिंह ने यूपीएससी में AIR 249 हासिल की थी. इसके बाद वो सहायक आयुक्त (अधिकारी प्रशिक्षु) के रूप में शामिल हुईं. वर्तमान में राष्ट्रीय सीमा शुल्क अप्रत्यक्ष कर और नारकोटिक्स अकादमी, फरीदाबाद में प्रशिक्षण ले रही हैं. बता दें कि ऐश्वर्या ने - दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित लेडी श्रीराम कॉलेज से स्नातक की परीक्षा पास की है. 
 
ऐश्वर्या के पिता ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह 1991 बैच के असम-मेघालय कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं. वो वर्तमान में असम पुलिस के विशेष महानिदेशक, कानून और व्यवस्था और एंटी-राइनो पोचिंग टास्क फोर्स के प्रभारी विशेष महानिदेशक के रूप में तैनात हैं.

ऐश्वर्या के पिता जीपी सिंह ने आजतक/इंडिया टुडे टीवी को फोन पर बताया कि ऐश्वर्या ने अपनी प्राथमिक शिक्षा असम में पूरी की है. वो बचपन से आईएएस बनने का सपना देखती थीं. 

अपने परिवार के साथ ऐश्वर्या
अपने परिवार के साथ ऐश्वर्या

बता दें कि ऐश्वर्या का सिविल सर्वेंट बनने का सपना अपने माता-पिता से प्रभावित होकर ही देखा था. जीपी सिंह ने ट्वीट करके लिखा कि  एक अच्छी खबर साझा कर रहा हूं. मेरी बेटी ऐश्वर्या ने सिविल सेवा परीक्षा में अखिल भारतीय 97वीं रैंक हासिल की है.

जीपी सिंह ने बताया कि ऐश्वर्या ने अपनी माध्यमिक शिक्षा दिल्ली मदर्स इंटरनेशनल स्कूल से ली है. इसके बाद राजनीति विज्ञान में लेडी श्रीराम कॉलेज, दिल्ली से स्नातक की पढ़ाई पूरी की. उनका अपने पहले प्रयास में आईआरएस का चयन हुआ. वहीं दूसरे प्रयास में साक्षात्कार के लिए गई, लेकिन अंतिम सूची में जगह नहीं बना सकीं. लेकिन अपने तीसरे प्रयास में 97वीं रैंक हासिल की. अब वो एक आईपीएस अधिकारी के रूप में काम करना चाहती हैं. 
 
जीपी सिंह ने आगे बताया कि मेरी पत्नी भी 1996 से 2006 तक 10 साल तक असम सिविल सर्विस (ACS) में थीं. लेकिन मेरी पत्नी ने मेरे बच्चों की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ दी. उनके इसी बल‍िदान का आज हमें परिणाम मिला है. ऐश्वर्या की छोटी बहन ने हिंदू कॉलेज, दिल्ली से सोशल साइंस हॉनर में यूजी किया है और अब वो भी बड़ी बहन के नक्शेकदम पर चलना चाहती हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें