scorecardresearch
 

UP PCS 2021: यूपी पीसीएस 2021 प्रारंभिक परिणाम पर हाईकोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में दलील दी थी कि यूपी पीसीएस परीक्षा 2021 में पूर्व सैनिकों को कानून के मुताबिक ही आरक्षण दिया गया है. पूरी बहस होने के बाद चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस जे जे मुनीर की डिवीजन बेंच ने फैसला सुरक्षित रखा है.

X
Allahabad High Court
Allahabad High Court

उत्तर प्रदेश पीसीएस 2021 प्रारंभिक परीक्षा परिणाम रद्द मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने फैसला सुरक्षित रखा है. चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस जे जे मुनीर की डिवीजन बेंच ने आयोग की ओर से दाखिल विशेष अपील पर बहस पूरी होने के बाद फैसला सुरक्षित रखा है. उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) ने दलील दी थी कि यूपी पीसीएस परीक्षा 2021 में पूर्व सैनिकों को कानून के मुताबिक ही आरक्षण दिया गया है.

क्या है यूपी पीसीएस 2021 प्रारंभिक परीक्षा का मामला?
याचिका के अनुसार, पीसीएस परीक्षा 2021 का विज्ञापन 5 फरवरी, 2021 को जारी किया गया था. ऑनलाइन आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 5 मार्च, 2021 थी, जिसे बाद में बढ़ाकर 17 मार्च, 2021 कर दिया गया. इस बीच, 5% आरक्षण के संबंध में संशोधन पूर्व सैनिकों को 3 मार्च, 2021 को अधिसूचित किया गया था.

यूपीपीएससी ने 1 दिसंबर 2021 को पीसीएस (प्रारंभिक) परीक्षा-2021 का परिणाम घोषित किया था, जिसमें 7,688 उम्मीदवारों को सफल घोषित किया गया था. 24 अक्टूबर, 2021 को राज्य के 31 जिलों में 1,505 केंद्रों पर आयोजित परीक्षा में रजिस्टर्ड 691,173 उम्मीदवारों में से कुल 321,273 उम्मीदवार उपस्थित हुए थे. 

यूपीपीएससी ने तब प्रारंभिक परीक्षा में योग्य घोषित उम्मीदवारों के लिए पीसीएस (मेन्स)-2021 आयोजित किया था. 23 से 27 मार्च, 2022 के बीच लखनऊ, प्रयागराज और गाजियाबाद में केंद्रों में कुल 5,957 उम्मीदवार उपस्थित हुए थे. यूपीपीएससी ने 12 जुलाई, 2022 को पीसीएस (मेन्स)-2021 का परिणाम घोषित किया था. प्रस्ताव पर 623 पदों के खिलाफ भर्ती के लिए कुल 1,285 उम्मीदवारों को मुख्य परीक्षा में सफल घोषित किया गया था. आयोग ने मेन एग्जाम में क्वालीफाई हुए उम्मीदवारों के इंटरव्यू 21 जुलाई से शुरू किए थे, जो 5 अगस्त को पूरे हो चुके हैं.

अब उम्मीदवारों को अपने रिजल्ट (UP PCS 2021 Result) का इंतजार है. इस बीच जूनियर वारंट ऑफिसर सतीश चंद्र शुक्ला व तीन अन्य ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में यूपी पीसीएस-2021 प्रारंभिक परीक्षा परिणाम को चुनौती दी थी. हाई कोर्ट में दायर याचिका में कहा गया था यूपी सरकार की ओर से जारी अधिसूचना के बाद भी पूर्व सैनिकों को आरक्षण का लाभ नहीं दिया गया है.

हाई कोर्ट एकल पीठ का फैसला
हाईकोर्ट की एकल पीठ ने सुनवाई के बाद यूपी पीसीएस 2021 प्रारंभिक परीक्षा परिणाम रद्द कर दिया था और आयोग को नए सिरे से परिणाम घोषित करने का आदेश दिया था. इसके बाद आयोग ने एकल पीठ के फैसले के खिलाफ विशेष अपील दाखिल की थी. अब डिवीजन बेंच ने इस पूरे मामले की बहस पूरी कर ली है और फैसला सुरक्षित कर लिया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें