scorecardresearch
 

उत्तराखंड: दुष्कर्म मामले में हाई कोर्ट ने फैसला रखा बरकरार, फांसी पर मुहर

देहरादून इंजीनियरिंग कॉलेज में निर्माणाधीन बिल्डिंग में काम करने वाले मजदूर की 11 वर्षीय बेटी की दुष्कर्म के बाद हत्या करने के मामले में उत्तराखंड हाई कोर्ट ने फैसला सुना दिया है. हाई कोर्ट ने दोषियों के लिए फांसी की सजा पर मुहर लगाई है.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

  • नाबालिग से दुष्कर्म के बाद हत्या करने का मामला
  • उत्तराखंड हाई कोर्ट ने फांसी की सजा रखा बरकरार

देहरादून इंजीनियरिंग कॉलेज में निर्माणाधीन बिल्डिंग में काम करने वाले मजदूर की 11 वर्षीय बेटी की दुष्कर्म के बाद हत्या करने के मामले में उत्तराखंड हाई कोर्ट ने फैसला सुना दिया है. हाई कोर्ट ने दोषियों के लिए फांसी की सजा पर मुहर लगाई है.

दुष्कर्म के दोषी को विशेष न्यायाधीश रमा पांडेय की अदालत ने 29 अगस्त 2019 को फांसी की सजा सुनाई थी. अब इस वारदात में हाई कोर्ट ने मुहर लगाते हुए निचली अदालत के आदेश को बरकरार रखा है. घटना 28 जुलाई 2018 की दोपहर को हुई थी.

क्या है मामला?

दरअसल, देहरादून के सिंघनीवाला स्थित एक इंजीनियरिंग कॉलेज के निर्माणाधीन भवन में मजदूरी करने वाले एक व्यक्ति की 11 साल की बच्ची अचानक लापता हो गई. बाद में उसका शव उसी दिन शाम एक झोपड़ी में सीमेंट के खाली कट्टों और ईंटों के नीचे दबा हुआ मिला.

इस मामले में सहसपुर पुलिस ने अभियुक्त जयप्रकाश तिवारी (32) के खिलाफ हत्या, साक्ष्य छिपाने, दुष्कर्म और पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज किया था. घटना की रात में ही पुलिस ने जयप्रकाश तिवारी को तिमली के पास जंगल से गिरफ्तार कर लिया था.

बता दें कि हाल ही में दिल्ली में हुए निर्भया मामले में भी डेथ वारंट जारी कर 4 गुनाहगारों को फांसी की सजा सुनाई गई है. 22 जनवरी 2020 को निर्भया मामले के गुनहगारों को फांसी दी जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें