scorecardresearch
 

यूपी: पूर्व IAS गिरफ्तारी देने पहुंचे कोतवाली, कोरोना को लेकर सरकार पर उठाए थे सवाल

रिटायर्ड IAS सूर्य प्रताप सिंह ने यूपी में कोरोना टेस्टिंग को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा था. इसके बाद भ्रामक जानकारी फैलाने के आरोप में 11 जून को उनके खिलाफ मामला दर्ज हुआ था.

रिटायर्ड  IAS सूर्य प्रताप सिंह रिटायर्ड IAS सूर्य प्रताप सिंह

  • विवेचक से मिलकर वापस लौट गए पूर्व IAS
  • कोरोना पर भ्रामक पोस्ट के लिए हुई थी FIR

रिटायर्ड IAS सूर्य प्रताप सिंह मंगलवार को अपनी गिरफ्तारी देने लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली पहुंच गए. उन्होंने पुलिस पर बिना उनका बयान दर्ज किए चार्जशीट दाखिल करने का आरोप लगाया है. सोमवार को उन्हें नोटिस भेजा गया था. हालांकि वो विवेचक से मिलकर वापस लौट गए.

कोतवाली में सूर्य प्रताप सिंह ने कहा, 'मुझे नोटिस आया था. मेरे खिलाफ एक FIR दर्ज की गई थी. मुझे ये पता चला कि मेरे खिलाफ चार्जशीट लगा दी गई है तो मैं गिरफ्तारी देने आया था, इसलिए मुझे गिरफ्तार करिए.'

वहीं, एसीपी हजरतगंज अभय मिश्रा के अनुसार, 'पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह पर जो एफआईआर दर्ज की गई थी, उसमें चार्जशीट बनाकर न्यायालय के समक्ष पेश की गई है. इसके बाद उन्हें नोटिस दिया गया था.'

पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह के खिलाफ FIR, सरकार विरोधी भ्रामक खबर पोस्ट करने का आरोप

बता दें कि सूर्य प्रताप सिंह ने यूपी में कोरोना टेस्टिंग को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा था. इसके बाद भ्रामक जानकारी फैलाने के आरोप में 11 जून को उनके खिलाफ मामला दर्ज हुआ था.

पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह योगी सरकार के कार्यों पर अक्सर ट्विटर के जरिए सवाल उठाते आए हैं. कोरोना महामारी के बीच उन्होंने ये सवाल भी उठाया था कि योगी सरकार जांच कम कर रही है, इसलिए केस कम आ रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें