scorecardresearch
 

राजसमंद मर्डर: शंभूलाल का नया हेट वीडियो, क्या लिखकर भेजा था मैसेज?

अब सबसे बड़ा सवाल यही उठ खड़ा हुआ है कि शंभूलाल को आखिर ये संदेश किस तरह भेजे गए. शंभूलाल ने कागज पर यह संदेश खुद लिखे या वीडियो शूट करने के लिए मोबाइल भेजने वाले लोगों ने ही उसे यह संदेश भी भेजा.

क्या शंभूलाल ने लिखा हुआ मैसेज पढ़ा क्या शंभूलाल ने लिखा हुआ मैसेज पढ़ा

राजस्थान के राजसमंद में लव जेहाद के नाम पर एक मुस्लिम श्रमिक की हत्या करने वीडियो बनाने वाला शंभूलाल रैगर फिर से सुर्खियों में है. जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद शंभूलाल ने जेल के अंदर से ही दो नए नफरत भरे वीडियो जारी किए हैं. जेल के अंदर वीडियो बनाने को लेकर जेल प्रशासन पर तो सवाल उठ ही रहे हैं, लेकिन दोनों वीडियो देखकर कुछ अहम सवाल भी उठ रहे हैं.

दोनों वीडियो दो अलग-अलग जगह शूट किए लग रहे हैं. इनमें से एक वीडियो टॉयलेट के अंदर शूट किया लग रहा है. यह तो साफ है कि शंभूलाल को बाहर से किसी मोबाइल पहुंचाया, जिससे ये वीडियो शूट किए गए. लेकिन दोनों वीडियोज देखकर साफ लग रहा है कि शंभू लिखा हुआ संदेश पढ़ रहा है.

अब सबसे बड़ा सवाल यही उठ खड़ा हुआ है कि शंभूलाल को आखिर ये संदेश किस तरह भेजे गए. शंभूलाल ने कागज पर यह संदेश खुद लिखे या वीडियो शूट करने के लिए मोबाइल भेजने वाले लोगों ने ही उसे यह संदेश भी भेजा. क्या इसके पीछे किसी संगठन का हाथ है या निजी तौर पर यह किसी की कारस्तानी है.

पहले वीडियो में शंभूलाल वंदे मातरम, 'जय श्री राम' और 'भारत माता की जय' के नारों के साथ अपनी बात शुरू करता है. दो मिनट 25 सेकेंड के इस वीडियो में शंभूलाल शुरुआत के एक मिनट 10 सेकेंड तक तो जेल में खुद की जान पर खतरे की बात बताता है. इस दौरान तो शंभूलाल मोबाइल के कैमरे में देखते हुए अपनी बात कहता है.

लेकिन इसके बाद धर्म, लव जेहाद, पाकिस्तान, बांग्लादेश और हिंदू-मुस्लिम से जुड़ी नफरत भरी बातें कहते हुए उसकी आंखें किसी लिखित इबारत पर टिकी लग रही हैं. वह जिस तरह अटक-अटक कर लंबे-लंबे और कठिन शब्दों से भरे वाक्यों को बोल रहा है, वह साफ इशारा कर रहे हैं कि वह लिखा हुआ संदेश पढ़ रहा है.

इतना ही नहीं दूसरे लोकेशन से शूट किया गया दूसरा वीडियो शुरू होता है तो शंभूलाल पिछले वीडियो की बात वहीं थोड़ा सा दोहराता हुआ लगता है. इस दूसरे वीडियो में शंभूलाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए 'साक्षात अवतारी महापुरुष' का संबोधन इस्तेमाल किया है.

इस दूसरे वीडियो में शंभुलाल कैमरे की आंख से दाईं ओर कुछ पढ़ता हुआ लग रहा है. बार-बार वह बाईं और कनखियों से ताकता है और अपनी बात बोलता है. दोनों ही वीडियो में शंभुलाल ने काले रंग का हुड वाला जैकेट और केसरिया रंग का टीशर्ट पहन रखा है. उसने कान में सफेद रंग का ईयरफोन लगा रखा है और चश्मे में है.

6 मिनट 18 सेकेंड के दूसरे वीडियो में 2 मिनट 35 सेकेंड पर शंभुलाल द्वारा पन्ना पलटने की आवाज आती है. मतलब साफ है कि उसे न सिर्फ मोबाइल उपलब्ध करवाया गया, बल्कि संदेश भी लिखकर पहुंचाया गया.

शंभूलाल के ये दोनों नफरत फैलाने वाले दोनों वीडियो तेजी से वायरल हो रहे हैं. वीडियो वायरल होने के बाद जेल प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है. जेल अधिकारियों के अनुसार, अब तक वीडियो शूट करने में इस्तेमाल मोबाइल को बरामद नहीं किया जा सका है.

लेकिन जेल प्रशासन ने किसी तरह का संदेश लिखा कागज का टुकड़ा पाए जाने का न तो जिक्र किया है और न ही इस बात का पता लगा पाई है कि शंभूलाल को यह सब किसने मुहैया कराया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें