scorecardresearch
 

चंदौली: 'बेटी की हत्या कर लाश को लटका कर भाग गए पुलिसवाले', पिता कन्हैया यादव ने बयां किया दर्द

चंदौली में हिस्ट्रीशीटर कन्हैया यादव ने दबिश के दौरान अपनी बेटी की मौत को लेकर यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस ने पहले उसे बुरी तरह पीटा और फिर उसके शव को कमरे में फंदे से लटका कर फरार हो गए.

X
चंदौली में पुलिस पर हत्या का आरोप
चंदौली में पुलिस पर हत्या का आरोप
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कन्हैया यादव ने पुलिस पर लगाया बेटी की हत्या का आरोप
  • बेटी की पीठ पर हैं चोट के निशान: कन्हैया यादव

यूपी के चंदौली में हिस्ट्रीशीटर कन्हैया यादव की बेटी निशा (21 साल) की मौत के मामले में अब उसके पिता ने यूपी पुलिस पर हत्या करने का आरोप लगाया है. आज तक से बात करते हुए कन्हैया यादव ने कहा कि पुलिसवालों ने पहले मेरी बेटी को बेरहमी से मारा और फिर हत्या कर लाश को कमरे में लटका कर भाग गए.

बता दें कि सैयदराजा थाना क्षेत्र के मनराजपुर गांव के रहने वाले कन्हैया यादव बालू के कारोबारी हैं और उनका आपराधिक इतिहास भी रहा है. पुलिस उन्हीं के घर दबिश देने गई थी, जिस दौरान उनकी बड़ी बेटी की मौत हो गई. अब उसके पिता ने आज तक से बात करते हुए कहा है कि मेरी बेटी निशा को पुलिसवालों ने पहले बेरहमी से मारा और फिर हत्या कर लाश को कमरे में लटका कर भाग गए. 

वहीं अपने बचाव में कन्हैया यादव ने कहा, 'मेरे खिलाफ सभी केस फर्जी हैं, मैं कोई खनन माफिया नहीं हूं, मेरे पास बालू की दुकान का लाइसेंस है, जीएसटी अदा करता हूं. सिर्फ पुलिस ने वसूली के लिए मेरे ऊपर केस दर्ज किया है.'

उन्होंने कहा, मुझसे थानेदार 10000 रुपये मांग रहे थे, जिसे देने से मैंने मना कर दिया जिसके बाद यह सब शुरू हुआ. कन्हैया यादव ने कहा, 'पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या आया नहीं पता लेकिन मेरी बेटी के शरीर पर पीटे जाने के निशान हैं. उसकी पीठ पर भी चोट के निशान हैं.'

खनन माफिया से सांठगांठ के आरोप

हालांकि इलाके में ऐसी भी चर्चा है कि कन्हैया यादव खनन माफियाओं से सांठगांठ कर बालू का अवैध कारोबार भी करते थे. कन्हैया यादव का पुराना आपराधिक इतिहास रहा है. इस मामले ने अब राजनीतिक रंग भी ले लिया है और यूपी पुलिस की किरकिरी हो रही है.

अखिलेश ने पुलिस पर लगाया हत्या का आरोप

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने भी सीधे पुलिस पर हत्या के आरोप लगाए हैं. अखिलेश ने कहा कि संबंधित थाने के इंस्पेक्टर के खिलाफ धारा 302 का केस दर्ज किया जाए. इस मामले में घटना की प्रत्यक्षदर्शी और निशा की छोटी बहन गुंजा ने भी सनसनीखेज दावे किए हैं.

दोषी हुए तो पुलिसकर्मियों पर भी होगी कार्रवाई: एसपी

इस मामले को लेकर चंदौली एसपी अंकुर अग्रवाल ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मौत के कारणों की पुष्टि नहीं हो पाई है. गले पर खरोंच और जबड़े में हल्के चोट के निशान हैं. इंटरनल और एक्सटर्नल किसी तरह की नई चोट नहीं है. घटना के रिक्रिएशन कर विशेषज्ञों से मदद की जाएगी. पुलिस सभी बिंदुओं की जांच कर रही है. जांच में अन्य पुलिसकर्मी दोषी पाए जाएंगे तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी.

ये भी पढ़ें: 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें