scorecardresearch
 

वीडियो में दिखे 30 आतंकियों का हमले में हाथ? घुसपैठ के लिए 150 और तैयार

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकवादियों ने आर्मी कैंप पर आत्मघाती हमला किया है. इसमें भारत के तीन जवान शहीद हो गए, वहीं दो आतंकियों को मार गिराया गया है. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में बॉर्डर के पास करीब 150 आतंकवादी घाटी में घुसपैठ के लिए इंतजार में हैं.

सेना की वर्दी में दिखे 30 से अधिक आतंकवादी सेना की वर्दी में दिखे 30 से अधिक आतंकवादी

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकवादियों ने आर्मी कैंप पर आत्मघाती हमला किया है. इसमें भारत के तीन जवान शहीद हो गए, वहीं दो आतंकियों को मार गिराया गया है. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में बॉर्डर के पास करीब 150 आतंकवादी घाटी में घुसपैठ के लिए इंतजार में हैं. इस हमले के जरिए भारतीय सेना का ध्यान भटका कर सीमा पार से घुसपैठ करने की साजिश रची जा रही है.

सूत्रों के मुताबिक, पीओके से ISI द्वारा आतंकियों को निर्देश दिया जा रहा है कि वे जम्मू-कश्मीर में स्थित आर्मी कैंप और मोबाइल कम्युनिकेशन टॉवर को निशाना बनाएं. सूबे में मोबाइल इंटरनेट बंद होने की वजह से आतंकी गुस्से में हैं. इसलिए सीमापार से आतंकियों को इस बात का बदला लेने का निर्देश दिया जा रहा है. वहीं, 28 अप्रैल को जम्मू से श्रीनगर शिफ्ट हो रहे जम्मू-कश्मीर दरबार पर भी आतंकी हमले का अलर्ट है.

कश्मीर घाटी में सुरक्षा के लिए जिम्मेदार श्रीनगर स्थित 15वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जे एस संधू ने कहा कि आतंकवादियों के घुसपैठ के इस प्रयास को विफल कर दिया जाएगा. जम्मू के पुंछ और रजौरी के सामने स्थित पाकिस्तान के कब्जे वाले क्षेत्रों के आतंकवादी शिविरों में कुछ और आतंकवादी होंगे. एक अनुमान के अनुसार भारतीय क्षेत्र 15वीं कोर में वर्तमान समय में करीब 150 आतंकवादी मौजूद हैं.

लेफ्टिनेंट संधू ने कहा कि नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से घुसपैठ पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष कम रही है. पिछले वर्ष घुसपैठ अधिक थी. इस वर्ष अभी तक हम घुसपैठिये रोकने में सफल रहे हैं. बर्फ ने भी हमारी मदद की है. इस वर्ष अधिक बर्फबारी होने से आतंकवादियों को घुसपैठ करने में मुश्किल हो गई है. हम उन्हें रोकना जारी रखेंगे ताकि आतंकवाद नहीं बढ़ने पाए. सेना मुस्तैद है.

बताते चलें कि सोशल मीडिया पर आतंकियों का एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है. इसमें 30 से अधिक आतंकवादी सेना की वर्दी में हथियार लिए दिखाई दे रहे हैं. आतंकवादी बुलेट प्रूफ जैकेट पहने हैं. उनके हाथों में एके-47 हैं. आतंकियों का यह वीडियो दक्षिणी कश्मीर के किसी जगह पर बनाया गया है. भारतीय सेना सोशल मीडिया पर आ रहे आतंकवादियों के वीडियो और घाटी में हिंसा पर चिंता व्यक्त की है.

बताया गया है कि आतंकियों ने ये वीडियो सोशल मीडिया पर एक एजेंडे के तहत शेयर किया है. वीडियो जारी करने का मकसद दक्षिण कश्मीर में अपनी मौजूदगी दिखाना है. वीडियो में करीब 30 की संख्या में आतंकी खुलेआम हथियार लेकर घूमते दिखाई दे रहे हैं. हैरान करने वाली बात ये भी है कि पिछले 20 सालों में पहली बार ऐसा देखने में आया है जब इतनी संख्या में आतंकी एक साथ नजर आए हैं.

एक तरफ कश्मीर घाटी में हालात सामान्य नहीं है. दूसरी तरफ दो खूंखार आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तोएबा के आतंकियों का यूं एक साथ नजर आना सुरक्षाबलों के लिए चिंता का विषय बन गया है. जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर घाटी के बिगड़ते हालात पर चर्चा करके हालात नियंत्रण में आने की बात कही थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें