scorecardresearch
 

VIP कमरे में AC-फ्रिज, 8 महीने तक पाकिस्तानी कैदी ने जी आलीशान जिंदगी!

पाकिस्तान में साल 2012 में हुए शाहबेज खान हत्या मामले में दोषी शाहरुख जटोई को 8 महीने तक VIP ट्रीटमेंट मिलता रहा. लेकिन जैसे ही यह खबर सामने आई तो फौरन शाहरुख को जेल वापस भेज दिया गया. मामले में कराची सेंट्रल जेल के अधीक्षक हसन सेतु को निलंबित कर दिया है.

X
सांकेतिक तस्वीर. सांकेतिक तस्वीर.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हत्या के दोषी को 8 महीने तक मिलता रहा VIP ट्रीटमेंट
  • मामले में कराची सेंट्रल जेल के अधीक्षक हसन सेतु निलंबित

पाकिस्तान में शाहजेब खान की हत्या के दोषी शाहरुख जटोई को 8 महीने तक VIP ट्रीटमेंट मिलता रहा. इसी के चलते सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने कराची सेंट्रल जेल के अधीक्षक हसन सेतु को निलंबित कर दिया है. दरअसल, 5 मई, 2021 को शाहरुख जटाई को कमर-उल-इस्लाम अस्पताल में रखा गया था.

उसे वहां VIP कमरा भी दिया गया. इसी के साथ उसे वहां एसी, फ्रिज और टीवी जैसी तमाम VIP सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई गईं. अस्पताल के प्रबंधक मोइन ने एक निजी न्यूज चैनल को बताया कि शाहरुख वहां करीब सात से आठ महीनों तक रहा.

जब यह बात सामने आई कि शाहरुख बिना किसी मेडिकल प्रोब्लम के अस्पताल में रह रहा है तो उसे फौरन जेल वापस भेज दिया गया. बता दें, शाहरुख जटोई ने 24 दिसंबर 2012 में किसी छोटी सी बहस पर शाहजेब खान नामक शख्स की हत्या कर दी थी. इस हत्या में उसके साथ सिराज तालपुर, और दो सुरक्षा गार्ड मुर्तजा लशारी और सज्जाद तालपुर को भी दोषी ठहराया गया है.

एक आतंकवाद विरोधी अदालत ने उन्हें मामले में मौत की सजा सुनाई. लेकिन सिंध उच्च न्यायालय की एकल पीठ ने मामले से आतंकवाद विरोधी अधिनियम के खंड हटा दिए और इसे एक निचली अदालत में भेज दिया. इसके बाद निचली अदालत ने उन्हें मामले में जमानत दे दी. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया और सिंध उच्च न्यायालय को मामले की फिर से जांच करने का आदेश दिया.

मई 2019 में, सिंध उच्च न्यायालय ने शाहजेब खान हत्या मामले में शाहरुख जटोई और सिराज तालपुर को दी गई मौत की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया. वहीं, अदालत ने मामले में दो अन्य आरोपियों की उम्रकैद की सजा बरकरार रखी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें