scorecardresearch
 

नोएडा: पहले जाम और फिर गाड़ी पंचर ने बचा ली युवक की जान

पहले जाम और फिर गाड़ी पंचर हो जाने की वजह से एक युवक की जान बच गई. मामला नोएडा सेक्टर 39 का है.

पुलिस की गिरफ्त में आए आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आए आरोपी

  • 6 बदमाशों ने किया था सचिन पाठक का अपहरण
  • जाम और गाड़ी पंचर होने के कारण बच गई जान

पहले जाम और फिर गाड़ी पंचर हो जाने की वजह से एक युवक की जान बच गई. मामला नोएडा सेक्टर 39 का है. पुलिस के मुताबिक होंडा सीटी कार में सवार 6 बदमाशों ने सचिन पाठक नाम के युवक का 18 नवंबर की सुबह ओखला स्टैंड का पास से जबरन गाड़ी में डाल लिया और उसे लेकर कालिंदी कुंज की तरफ भागने लगे, लेकिन उस तरफ आगे जाम लगा था.

बदमाशों को डर था कि कहीं वो पकड़े ना जए इसलिए उन सबने गाड़ी को रांग साईड में ले लिया और पुश्ता की तरफ भागने लगे, लेकिन जैसे ही वो एक गौशाला के बगल में पहुंचे उनकी गाड़ी पंचर हो गई. इस दौरान उनकी नजर पीछे आ रही वैगन आर कार पर पड़ी. उन बदमाशों ने वैगन आर कार लूटी ली, लेकिन इस दौरान मौके का फायदा उठा कर सचिन पाठक गौशाले की दीवार फांद कर भाग निकला.

पुलिस ने जब मामले की जांच शुरु की तो पता लगा कि जिस होंडा सिटी कार से अपहरण किया गया था वो भी लूटी हुई गाड़ी थी, लिहाजा पुलिस को यकीन हो गया कि सचिन के अपहरण के पीछे किसी ने साजिश रची है. जांच में पता लगा कि सचिन पाठक का बालेंद्र और रहीश नाम के दोनो लोगों से किसी बात पर रंजिश है.

पुलिस के मुताबिक, इन्हीं दोनो ने सचिन पाठक को सबक सिखाने के लिए एक लाख की सुपारी नेमू और मुक्की नाम के बदमाशों को दी थी. सचिन के अपहरण के लिए नेमू और मुक्की ने पहले तो होंडी सिटी गाड़ी चोरी की, फिर 18 की सुबह सचिन का अपहरण किया, लेकिन जाम और टायर पंचर होने की वजह से सचिन बच गया.

पुलिस ने इस मामले में बालेंद्र और रहीश समेत 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है और उनसे पूछताछ कर रही है. पुलिस ने आरोपियों के पास से एक सिल्टल, एक लूटी गई वैगन आर कार और एक चोरी की होंसा सीटी बरामद की है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें