scorecardresearch
 

मध्‍य प्रदेश में RSS स्वयंसेवक की हत्‍या, बीते 7 दिन में तीसरा मामला

MP BJP related people third murder मध्यप्रदेश में बीजेपी या आरएसएस से जुड़े लोगों की हत्याओं का सिलसिला रुकने का नाम न‍हीं ले रहा है. ताजा मामला रतलाम का है, जिसके बाद सात दिनों में ये आंकड़ा बढ़कर तीन तक जा पहुंचा है.

पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने सूबे की कानून व्‍यवस्‍था पर उठाए सवाल(फाइल फोटो) पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने सूबे की कानून व्‍यवस्‍था पर उठाए सवाल(फाइल फोटो)

मध्यप्रदेश में बीजेपी या आरएसएस से जुड़े लोगों की हत्याओं का सिलसिला लगातार जारी है. ताजा मामला रतलाम का है, जहां हिम्मत पाटीदार नाम के शख्स की गला रेत कर हत्या कर दी गई.  बताया जा रहा है कि मृतक का भाई आरएसएस में जिला घोष प्रमुख है तो वहीं पूर्व सीएम शिवराजसिंह ने मृतक को आरएसएस का स्वयंसेवक बताया है. इस हत्या के बाद मध्य प्रदेश में एक बार फिर से राजनीति तेज हो गई है क्योंकि मध्य प्रदेश में बीते कुछ दिनों में बीजेपी या आरएसएस से जुड़े तीसरे शख्स का कत्ल हुआ है.

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले 17 जनवरी को मंदसौर नगर पालिका अध्यक्ष और बीजेपी नेता प्रह्लाद बंधवार की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उसके बाद 20 जनवरी को बड़वानी जिले के बलवाड़ी में बीजेपी नेता मनोज ठाकरे की भी हत्या कर दी गई थी. और अब 23 जनवरी को रतलाम मेंहिम्मत पाटीदार की हत्या के बाद महज 7 दिनों में ये आंकड़ा बढ़कर 3 तक जा पहुंचा है.

रतलाम से सामने आए मामले के बाद सूबे की कानून-व्यवस्था पर तो सवाल खड़े हो ही रहे हैं, वहीं बीजेपी इसे लेकर कांग्रेस पर राजनीतिक हत्याओं का आरोप भी लगा रही है.

रतलाम की घटना में मृतक हिम्मत पाटीदार की गला रेतकर हत्या करने के बाद  उसकी पहचान छुपाने के लिए चेहरा भी जलाने की कोशिश की गई. हत्या की खबर मिलते ही घटनास्थल पर रतलाम ग्रामीण विधायक दिलीप मकवाना और आरएसएस-बीजेपी से जुड़े कई लोग पहुंच गए. फिलहाल पुलिस नेहत्या की धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. 

शिवराज ने बताया संघ का स्वयंसेवक

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने हिम्मत पाटीदार को आरएसएस का स्वयंसेवक बताया है. बुधवार शाम को शिवराज सिंह चौहान ने हिम्मत पाटीदार की हत्या पर ट्वीट करते हुए लिखा कि 'रतलाम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघके स्वयंसेवक श्री हिम्मत पाटीदार को सादर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं. उनकी हत्या की खबर से मन व्यथित है. सरकार से उनके हत्यारों को शीघ्र पकड़ने की मांग करता हूं. प्रदेश में अराजकता के हालात बन चुके हैं. क्या यही है कांग्रेस का 'वक्त बदलाव का'? हत्या समेत लूटपाटऔर दूसरी आपराधिक गतिविधियां बढ़ती जा रही हैं और कांग्रेस सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है, शर्मनाक बयान दे रही है'.

आपको बता दें कि मनोज ठाकरे की हत्या के बाद बीजेपी ने प्रदेश भर में प्रदर्शन कर कमलनाथ सरकार का पुतला जलाया था और माना जा रहा है कि हफ्ते भर में तीसरी हत्या के बाद बीजेपी का कमलनाथ सरकार पर हमला और तेज होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें