scorecardresearch
 

दर्ज नहीं हुआ रेप केस, किशोरी ने लगाई फांसी

यूपी के झांसी में रेप का केस दर्ज नहीं किए जाने से क्षुब्ध एक किशोरी ने फांसी लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया. वह अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही है. इस मामले में अभी तक पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं किया है. हालांकि, मीडिया से बातचीत में क्षेत्राधिकारी ने इस मामले की जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है.

यूपी के झांसी में रेप का केस दर्ज नहीं किए जाने से क्षुब्ध एक किशोरी ने फांसी लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया. वह अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही है. इस मामले में अभी तक पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं किया है. हालांकि, मीडिया से बातचीत में क्षेत्राधिकारी ने इस मामले की जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है.

जानकारी के मुताबिक, जिले के टहरौली थाना क्षेत्र में एक व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ खेत पर गया था. घर में उसकी 17 वर्षीय बेटी अपने 10 वर्षीय भाई के साथ थी. भाई जब खेलने बाहर चला गया, तभी बृजेंद्र नामक युवक उसके घर में घुस गया. किशोरी को जबरन दबोच लिया और उसके साथ रेप किया. वह रहम की भीख मांगती रही, लेकिन उसको तरस नहीं आया.

पीड़िता को दुत्कार कर भगाया
वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी पीड़िता को जान से मारने की धमकी देकर भाग गया. दंपति जब लौटकर घर पहुंचा तो इस घटना से रूबरू हुआ. पिता पीड़ित बेटी को लेकर थाने पहुंचे. थानेदार ने एसएसपी के निर्देश के बावजूद मामला दर्ज नहीं किया. पीड़िता को दुत्कार कर भगा दिया. वह मायूस होकर अपने पिता के साथ घर आ गई.

ऐसे बचाई पीड़िता की जान
पुलिस के रवैये से दुखी होकर पीड़िता ने देर रात कमरे में जाकर फांसी लगा ली. इससे पहले कि उसकी मौत होती, परिजनों ने उसे देख लिया और आनन-फानन में कमरे के अंदर घुसकर उसे फांसी से उतारकर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र ले गए. हालत गंभीर होने के कारण उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर कर दिया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें