scorecardresearch
 

कैदी के तलवे में मिला मोबाइल, मदद करने वाला पुलिसकर्मी गिरफ्तार

यह पहली दफा नहीं जब किसी पुलिसकर्मी ने कैदियों को इस तरह की सुविधा मुहैया कराने में मदद की है. पहले भी पुलिसकर्मियों की मिलीभगत से कैदियों को मोबाइल फोन से लेकर नशीले पदार्थ तक मुहैया कराये जाते रहे हैं.

बरामद मोबाइल बरामद मोबाइल

गुरुग्राम की भोंडसी जेल में मोबाइल मिलने संबंधी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. असल में, रविवार रात को 7 जनवरी को हत्या के मामले में सजा काट रहा सजायाफ्ता कैदी आदिल को सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए लाया गया था. लेकिन 8 जनवरी को जब कैदी को दोबारा भोंडसी जेल ले जाया गया तो उसके पास से मोबाइल बरमाद किया गया.

जेल में लाए जाने के दौरान हुई चेकिंग के दौरान यह मामला सामने आया. कैदी ने तलवे में मोबाइल छिपा रखी थी. मोबाइल मिलने के बाद इसकी सूचना भोंडसी पुलिस थाना को दी गई. पूछताछ में पता चला कि गारद में तैनात पुलिस कर्मी ने कैदी को मोबाइल दिया. बहरहाल पुलिस ने आरोपी पुलिसकर्मी मनीष को गिरफ्तार कर मामले की जांच शुरू कर दी.

यह पहली दफा नहीं जब किसी पुलिसकर्मी ने कैदियों को इस तरह की सुविधा मुहैया कराने में मदद की है. पहले भी पुलिसकर्मियों की मिलीभगत से कैदियों को मोबाइल फोन से लेकर नशीले पदार्थ तक मुहैया कराये जाते रहे हैं. हालांकि भोंडसी पुलिस थाना ने आरोपी कॉन्स्टेबल मनीष को गिरफ्तार कर मामले की तफ्तीश जरूर शुरू कर दी है. एसीपी क्राइम शमशेर सिंह ने बताया कि आरोपी पुलिसकर्मी से पूछताछ जारी है.

बता दें कि बीते साल भर में गुरुग्राम पुलिस और भोंडसी जेल प्रबंधन की संयुक्त चेकिंग के दौरान सैकड़ों मोबाइल फोन जेल परिसर से बरमाद किये गए थे. मामले दर्ज किए गए लेकिन इसके पीछे कौन लोग हैं अभी इसका खुलासा नहीं हो पाया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें