scorecardresearch
 

यूपी में गैंगरेप की वारदात के बाद दुखी पीड़िता ने खुद को जिंदा जलाया

यूपी के हमीरपुर जिले में गैंगरेप की वारदात से दुखी होकर एक नाबालिग लड़की ने आग लगाकर अपनी जान दे दी. बीते रविवार को पड़ोस में रहने वाले दो सगे भाइयों ने नाबालिग के घर में घुसकर उसकी इज्जत लूट ली थी.

यूपी के हमीरपुर जिले में हुई वारदात यूपी के हमीरपुर जिले में हुई वारदात

यूपी के हमीरपुर जिले में गैंगरेप की वारदात से दुखी होकर एक नाबालिग लड़की ने आग लगाकर अपनी जान दे दी. बीते रविवार को पड़ोस में रहने वाले दो सगे भाइयों ने नाबालिग के घर में घुसकर उसकी इज्जत लूट ली थी. इसके बाद पीड़िता ने मिट्टी का तेल डालकर खुद को आग के हवाले कर दिया. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.

पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी. ने बताया कि रविवार को जिले के मझगवां थाना क्षेत्र के काठा गांव में एक 17 साल की नाबालिग लड़की के साथ उसके गांव के ही दो सगे भाइयों ने घर में घुसकर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया. इससे क्षुब्ध होकर उसने घटना के तत्काल बाद मिट्टी का तेल छिड़क कर आग लगा ली, जिससे उसकी मौत हो गई है.

वहीं, मृतका के पिता का आरोप है कि आरोपियों ने ही गैंगरेप के बाद सबूत मिटाने के लिए उनकी बेटी को जिंदा जला दिया. उन्होंने बताया कि गैंगरेप के बाद जिस समय लड़की को आरोपी जिंदा जला रहे थे, उस समय मेरा छोटा बेटा घर पहुंचा और अपनी बहन को बचाने की कोशिश की थी, लेकिन उन दोनों ने उसे भी पीटकर घायल कर दिया था.

दूसरी ओर, अपर पुलिस अधीक्षक लाल साहब ने कहा कि मृतका के पिता की तहरीर पर ही रेप और आत्मदाह के लिए प्रेरित करने का मामला दर्ज किया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी रेप और आत्मदाह की पुष्टि हुई है. थानाध्यक्ष मधुसूदन दीक्षित ने बताया कि आरोपी सुनील और सोनू के खिलाफ केस दर्ज करके एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

बताते चलें कि यूपी में सरकार बदलने के बावजूद महिलाओं पर अत्याचार के मामलों में कोई कमी आती नजर नहीं आ रही है. फतेहपुर के खागा कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में घर के अंदर सो रही लगभग नौ साल की बच्ची को गांव का ही एक व्यक्ति उठा ले गया. इसके बाद उसे अपनी हवस का शिकार बनाया.

दरिंदा जिस वक्त बच्ची के साथ घिनौनी घटना को अंजाम दे रहा था, उस समय किशोरी के मां-बाप खेत में पानी लगाने के लिए गए थे. रविवार की रात लगभग साढ़े बारह बजे मां-बाप घर लौटे तो किशोरी लापता थी. रात लगभग तीन बजे बच्ची किसी तरह घर पहुंची. उसने रो-रो कर मां को वारदात की जानकारी दी.

इसके बाद परिजनों पुलिस को सूचना दी. परिजनों ने तत्काल उपचार के लिए बच्ची को जिला चिकित्सायल में भर्ती कराया. सूचना पाकर अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार सिंह जिला चिकित्सालय पहुंचे. उन्होंने पीड़ित बच्ची के परिजनों से घटना के बावत जानकारी हासिल की है. होश में आने के बाद भी बच्ची बेहोश हो जा रही है.

एसपी ने बताया कि पीड़िता के परिजनों की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 और पॉक्सो कानून के तहत केस दर्ज कर लिया गया है. बच्ची की हालत खराब है. उसने बताया कि वह उस व्यक्ति को पहचान नहीं पाई, जिसने इस वारदात को अंजाम दिया है. पुलिस की एक टीम इस मामले की जांच में जुटी हुई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें