scorecardresearch
 

कोचिंग हब कोटा बना कब्रगाह, पंखे से लटककर छात्र ने दी जान

राजस्थान के कोटा जिले में इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे बिहार के एक 16 वर्षीय किशोर ने महावीरनगर में अपने कमरे के पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली. उसके पास से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. इस मामले की जांच की जा रही है.

राजस्थान के कोटा जिले की घटना राजस्थान के कोटा जिले की घटना

राजस्थान के कोटा जिले में इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे बिहार के एक 16 वर्षीय किशोर ने महावीरनगर में अपने कमरे के पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली. उसके पास से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. इस मामले की जांच की जा रही है.

जानकारी के मुताबिक, मधुबनी जिले का रहने वाला अभिषेक कुमार यादव मंगलवार की सुबह पंखे से लटका मिला. वह किराए के मकान में रहकर इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहा था. घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. उसके पास कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.

बिहार का रहने वाला था मृतक छात्र
थाना प्रभारी हरीश भारती ने बताया कि अभिषेक यादव करीब दो साल पहले इंजीनियरिंग कालेजों में प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने के लिए यहां आया था, लेकिन उसने शहर के किसी कोचिंग इंस्टीट्यूट में दाखिला नहीं लिया था. उसकी आत्महत्या की वजह अभी मालूम नहीं हो पाई है. उसके परिजन के आने के बाद पोस्टमार्टम किया जाएगा.

कोचिंग हब बना छात्रों का कब्रगाह
बताते चलें कि कोटा कभी कोचिंग हब के रूप में मशहूर था, लेकिन अब छात्रों का कब्रगाह बनता जा रहा है. यहां साल 2012 में 11, 2013 में 26, 2014 में 14, 2015 में 17 और 2016 में 17 से अधिक छात्र मौत को गले लगा चुके हैं. मौत का मनहूस सिलसिला अभी भी जारी है. ऐसे में अभिवावकों को दबाव बनाने की बजाए सोचने की जरूरत है.

इनपुट- भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें