scorecardresearch
 

फिल्मी स्टाइल में कांस्टेबल ने दबोचा चोर, चोरी के तरीके जानकर हो जाएंगे हैरान

डिजिटल दुनिया के इस दौर में गाड़ियों के लॉक भी डिजिटल हो रहे हैं. पहले गाड़ियां जहां चाबी से स्टार्ट होती थीं तो अब बटन और रिमोर्ट से स्टार्ट होने लगी हैं. लोगों को लगता है कि उनकी गाड़ियां सेफ हैं, लेकिन शायद यह उनकी गलतफहमी है. क्योंकि दिल्ली पुलिस एक ऐसे शख्स को पकड़ी है जिसके पास से 50 चाबी का गुच्छा, 25 रिमोट कंट्रोल मशीन, इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट बरामद हुए हैं. 

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी( फोटो- तनसीम हैदर) पुलिस की गिरफ्त में आरोपी( फोटो- तनसीम हैदर)

डिजिटल दुनिया के इस दौर में गाड़ियों के लॉक भी डिजिटल हो रहे हैं. पहले गाड़ियां जहां चाबी से स्टार्ट होती थीं तो अब बटन और रिमोर्ट से स्टार्ट होने लगी हैं. लोगों को लगता है कि उनकी गाड़ियां सेफ हैं, लेकिन शायद यह उनकी गलतफहमी है. क्योंकि दिल्ली पुलिस एक ऐसे शख्स को पकड़ी है जिसके पास से 50 चाबी का गुच्छा, 25 रिमोट कंट्रोल मशीन, इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट बरामद हुए हैं.  

आरोपी को पकड़ने का श्रेय पंजाबी बाग थाने के एक कांस्टेबल को जाता है. कॉन्स्टेबल ने फिल्मी स्टाइल में कार का पीछाकर उसके शीशे को तोड़कर आरोपी को पकड़ा. युवक को पकड़ने के बाद पुलिस भी उसके पास से बरामद सामान को देखकर सन्न रह गई. डीसीपी वेस्ट मोनिका भारद्वाज ने बताया कि गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम राज कुमार है. उसके ऊपर पहले से 28 मुकदमे अलग-अलग मामलों में चल रहे हैं. मोती नगर, करावल नगर, सीलमपुर, कोटला मुबारकपुर, अशोक विहार, तिलक नगर थाने में उसके खिलाफ मुकदमे दर्ज हैं.

महंगी गाड़ियां बरामद

इस बदमाश की निशानदेही पर पुलिस ने पांच महंगी गाड़ियां भी बरामद की हैं. ये गाड़ियां अलग-अलग थानों से चुराई गईं थी. पुलिस के अनुसार हेड कांस्टेबल दिनेश और कांस्टेबल कर्मवीर पेट्रोलिंग पर थे. उसी दौरान कर्मवीर की नजर एक वरना गाड़ी पर पड़ी. ये गाड़ी धीरे-धीरे चल रही थी. गाड़ी में तीन युवक सवार थे.

सुबह 3:30 बजे के आसपास गाड़ी की रफ्तार बेहद कम होने से कर्मवीर को शक हो गया. इसके बाद कांस्टेबल कर्मवीर ने अपनी बाइक गाड़ी के पीछे लगा दी. पुलिस को देखकर ड्राइवर ने गाड़ी की स्पीड की बढ़ा दी. इसके बाद कर्मवीर और हेड कांस्टेबल दिनेश का शक बढ़ गया. फिर इन लोगों ने मैसेज देकर नाइट पेट्रोलिंग में अपने चौकी इंचार्ज संदीप कुमार और उनकी टीम को अलर्ट कर दिया. और लगातार यह बाइक से गाड़ी का पीछा करते रहे.

कई जगह पुलिस की दूसरी टीम ने रास्ता भी बंद किया. लेकिन कार सवार तीनों युवक कार को लेकर इधर-उधर 10 से 15 मिनट तक भागते रहे. आखिर में उनकी गाड़ी दीवार से टकरा गई. फिर उन्होंने गाड़ी को रिवर्स पर ले कर भागने कोशिश की. इतने में कांस्टेबल कर्मवीर और हेड कांस्टेबल दिनेश पहुंच गए.

कर्मवीर ने बिना समय गंवाए बाइक से छलांग लगाई और ड्राइवर सीट की तरफ से पंच मार दिया. जोरदार पंच से शीशा टूट गया और शीशा टूटते ही कर्मवीर ने गाड़ी की चाबी निकाल ली. चाबी निकालते ही गाड़ी बंद हो गई और कर्मवीर ने तुरंत ड्राइवर सीट पर बैठे युवक को दबोच लिया. इतने में हेड कांस्टेबल दिनेश ने भी मदद की. तब तक गाड़ी के पिछले हिस्से में बैठे दोनों युवक मौके का फायदा उठाकर भागने में कामयाब हो गए. लेकिन जिस युवक को पुलिस कर्मियों ने पकड़ा था वह भी भागने कोशिश करने लगा और पुलिसकर्मियों से हाथापाई हो गई. लेकिन अंत तक वह भाग नहीं पाया.

इधर सब इंस्पेक्टर संदीप कुमार की टीम भी मौके पर पहुंच गई और जब इन लोगों ने गाड़ी की तलाशी ली तो उसमें से सभी सामान बरामद हुए. पूछताछ में आरोपी ने बताया कि पिछले 3 से 4 महीने के बीच वह अपने गैंग के साथ मिलकर वेस्ट दिल्ली, सेंटर दिल्ली और आसपास के इलाकों से 50 गाड़ियां चोरी करके दिल्ली से बाहर मेरठ, अलीगढ़ मुरादाबाद आदि में डिस्पोजल कर चुका है. पुलिस टीम अब इसकी निशानदेही और पूछताछ के आधार पर इसके गैंग के और भी मेंबर को पकड़ने का प्रयास कर रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें